अजब-गज़ब है निर्माण की दुनिया

0
101

                                                 हाउसिंग कॉम्प्लैक्स

कुछ हटकर होना  भी खास बन जाता है। चाहे मामला आदमी के व्यक्तित्व का हो या बिल्डिंग की संरचना का। बिल्डिंग की दुनिया में कुछ ऐसी भी बिल्डिंग हैं, जिनको आप एकबारगी देखें तो चौंकें बिना नहीं रह सकते हैं कि कहीं ऐसी भी बिल्डिंग भी हो सकती हैं। यहां दी जा रही बिल्डिंग भी कुछ हटकर और खास हैं। इसकी यह अजीब डिज़ाइन और ले-आउट के पीछे, कुछ में तर्कशास्त्र ने काम किया है तो कुछ में भौगोलिक और सांस्कृतिक प्रभाव ने। निर्माण की दुनिया को एक अनोखे अंदाज़ में ढालने वाली ये बिल्डिंग ज्यादातर समय खबरों की सुर्खियों में बनी रहती है। जरा आप भी फुर्सत के क्षणों में इनकी दुनिया से नाता जोडिय़े और फर्क महसूस कीजिये। संभव है कि आपके मूड को बदलकर रख दे।

ऊपर दिया गया चित्र एक प्रसिद्ध हाउसिंग कॉम्प्लैक्स का है। इस प्रसिद्ध हाउसिंग कॉम्प्लैक्स का नाम हैबिटेट-67 है। यह कनाडा के मुख्य राज्य मांट्रियल की राजधानी क्यूबेक सिटी में है। इस प्रसिद्ध हाउसिंग कॉम्प्लैक्स को 2600 Pierre Dupuy Avenue के नाम से भी जाना जाता है। क्यूबेक सिटी के Marc-Drouin Quay नामक स्थान पर स्थित है। हाउसिंग कॉम्प्लैक्स-67 का उपनाम ”मैन एंड हीज वर्ल्ड ‘ है, यह शब्द Antoine de Saint Exupéry’s memoir Terre des hommes से लिया गया है। इस अनोखे हाउसिंग कॉम्प्लैक्स का वास्तुकार मोशे सफदी हैं, जो वर्ष 1967 के एक खास एक्पो के दौरान इसे बनाया था। एक्पो में आने वाले आगुन्तकों के लिये इसका निर्माण किया गया था। उस समय यह अस्थायी निवास और थिमेटिक पैवेलियन के रूप में था। वर्तमान में यह कॉम्प्लैक्स यहां रहने वाले किरायेदारों का है, जो एक लिमिटेड पार्टनरशिप कनाडा मॉर्गेज और हाउसिंग कॉरपोरेशन का संयुक्त उपक्रम है। वास्तुकार ने इसका निर्माण अपने मास्टर डिग्री के विषयों पर आधारित रखा जो उन्होंने मैक्गिल यूनिवर्सिटी (Mcgill University)से प्राप्त की थी। शुरुआत में प्रोजेक्ट की आधारशिला को अर्फोडेबल हाउसिंग के हिसाब से रखा गया था लेकिन बाद में यहां पर बने अपार्टमेंट्स पुराने अपार्टमेंट्स की तुलना में ज्यादा महंगे हो गये। यहां पर प्राइवेट क्वाटर्र के साथ एक गार्डन भी जुड़ा हुआ है। इस मॉडर्न अपार्टमेंट्स की घनत्व को मॉडयूलर और इंटरलॉकिंग कंक्रीट रूप में बनवाया गया था, जो आधुनिक होने के साथ-साथ सभी आधुनिक सुविधाओं से लैस था। इस स्थान पर लोग इतने मात्रा में एकत्रित होकर एक नये लाइफ स्टाइल को अपना कर रह रहे हैं। यह अपने आप में यूनिक बातें हैं। इस स्थान पर कई वीडियो फिल्मों के एल्बम का फिल्मांकन भी हुआ है। इस प्रसिद्ध स्थान पर प्रसिद्ध बहुमुखी प्रतिभा सम्पन्न कनाडियन गायक लियोनार्डो कोहेन ने अपनी म्यूजि़क एल्बम ‘इन माय सीक्रेट लाइफ’ का फिल्मांकन किया था। यहां पर विश्व का सबसे बड़ी प्रदर्शनी का आयोजन वर्ष 1967 में किया गया था। एक्पो के लिये हाउसिंग कॉम्प्लैक्स एक मुख्य थीम के रूप में था। हैबिटेट-67 का निर्माण क्यूब (घन) आकार के ज्यामीतिय आधार था। इस हाउसिंग कॉम्प्लैक्स में क्यूब( घन) के रूप में बनाये जाने के पीछे तर्क यह था कि यह घन स्थायित्व का द्योतक है। ऐसे क्यूब को बुद्धिमता, सचाई और मज़बूत नैतिकता से जोड़ कर देखा जाता है। इस हाउसिंग कॉम्प्लैक्स में 146 रेसीडेंशस हैं, जो 354 घन के आकार के ज्यामीतिय आधार से जुड़ा हुआ है। हैबिटेट-67 ने सैंट लॉरेन्स नदी की दुनिया को धरती और आकाश के बीच हरियाली से इस प्रकार से जोड़ा है, मानो एक शानदार भूरे रंग, नदी के पानी पर प्रकाश से परावर्तित किरणें एक नयी जहां बसा ली हो।
अनोखा क्यूबिक हाउस
 क्यूबिक हाउस देखने में भले ही विचित्र लगे लेकिन वास्तु का अनुपम उदाहरण है। इसे बनाने में लीक से हटकर सोच और मेहनत ने रंग लाया है। यह प्रसिद्ध हाउस नीदरलैंड के रौत्तेर्दम राज्य में स्थित है। हाउस का पता है-ऑवरब्लॉक 70, 3011 एमएच, रौत्तेर्दम ( नीदरलैंड)। इसे वर्ष 1982-84 में बनाया गया था। इसके वास्तुकार पियट ब्लोम हैं। यह एक प्रकार से हाउसिंग कॉम्प्लैक्स है। इस हाउस को बनाने का आइडिया सर्वप्रथम वर्ष 1970 में आया था। हाउस बनाने के पीछे पियट की अभिधारणा थी कि प्रत्येक निर्माण घन के आकार में हो जो निर्माण की भव्यता को प्रकट कर सके और वह ज्यादा देखने में जटिल भी न हो। यदि इस बात पर ध्यान नहीं दिया जाता तो संभव था कि निर्माण की दुनिया एक जंगल का रूप ले लेता। क्यूब आकार के निर्माण में रहने वाले स्थान को तीन भागों में बांटा गया। पहला भाग त्रिकोण आकार लोअर लेवल का है, जो लीविंग एरिया के रूप में है। हाउस का मध्य लेवल स्लीपिंग एरिया और बाथरूम से लैस है। हाउस का टॉप लेवल त्रिभुजाकार के रूप में है और इसका इस्तेमाल एक्स्ट्रा बेडरूम और लीविंग स्पेस के रूप में होता है। वास्तुकार ब्लोम को रोत्तेर्दम सिटी के प्रमुख ने कहा था कि यहां पर स्थित पैडेस्ट्रीन ब्रिज के ऊपर बनाना है । इस बात को सुनकर पहले तो ब्लोम सोच में पड़ गये लेकिन उनको लगा कि यदि यहां पर क्यूबनुमा हाउस के कॉन्सेप्ट को प्रयोग किया जाय तो बात बन सकती है। यहां पर घनाकार आकार के रूप को षष्टकोणिय आकार के पोल संरचना ने मज़बूती प्रदान की, जिस पर पूरा हाउस फीट बैठ गया। घनाकार आकार की संरचना इस आकृति पर थोड़ी सी झुकी हुयी भी है। हाउस के टॉप से घर की सुन्दरता का नयनाभिराम दृश्य देखा जा सकता है, जो तीन तरफ से पिरामीड आकार लिये लगता है और उसके चारों ओर खिड़कियां घिरी हुयी है। यहां पर क्यूबनुमा पारंपरिक घर 45 डिग्री पर झुका हुआ है और बाकी घर षष्टïकोणिय आकार के खम्भे पर टिका हुआ है। इस हाउसिंग कॉम्प्लैक्स में 38 क्यूब और 2 सुपर क्युब, जो एक दूसरे से जुड़ा हुआ है। हाउस में तीन फ्लोर हैं। ग्राउंड फ्लोर इन्ट्रेस है। फस्र्ट फ्लोर पर लीविंग रूम और किचन रूप है। दूसरे फ्लोर पर दो बेडरूम और बाथरूम हैं। टॉप फ्लोर का प्रयोग कभी-कभार गार्डन के रूप में किया जाता है। हाउस के दीवार और खिड़की के बीच 54.7 डिग्री का कोण बनता है, जो संरचना के अनुकूलता को दर्शाता है। अपार्टमेंट 100 स्क्वेयर मीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है लेकिन अपार्टमेंट के चारों ओर काफी खाली स्थान है, पर इसके क्यूबनुमा संरचना इन दीवारों को छत के नीचे ला दिया है। जिसके कारण यह स्थान का कोई इस्तेमान नहीं हो पाता है।
डांसिंग हाउस
संगीत की रिद्म पर आप झूमते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि संगीत की रिद्म पर बिल्डिंग भी झूमती है। जी हां- संगीत चीज़ ही ऐसी है कि निर्जीव वस्तुओं में भी जान फूंक सकती है। हम यहां बात कर रहे हैं डांसिंग हॉउस की। यह अनोखा हाउस चेक गणराज्य की राजधानी प्राग के न्यू टाउन में है। इसे तान्सिकी दम ((Tancící dum) के नाम से भी जाना जाता है। इसने पैराग्वे की प्रसिद्ध नदी वाल्टवा की दुनिया को संगीत की थीम से सरोबोर कर दिया है। इसे वर्ष 1992-96 में निर्माण किया गया। यह बिल्डिंग चारों ओर से शीशा से घिरी हुयी है, जो वास्तु का अनुपम उदाहरण भी प्रस्तुत करता है। डासिंग बिल्डिंग देखने में काफी भव्य है और उसकी बाहरी आकृति वक्र है। इसका प्रारंभिक नाम एस्टैयर एंड रोजरर्स बिल्डिंग था, जो बाद में डांसिंग हाउस के नाम से प्रसिद्ध हो गया। इसका वास्तुकार चेक गणराज्य के व्लादो मिलुनिक हैं। इस बिल्डिंग के साथ एक कहानी भी जुड़ी हुयी है। वर्तमान में जो यह दिख रही है, वह ऐसी हालात में नहीं थी क्योंकि द्वितीय विश्वयुद्ध के समय इस पर जमकर बमबारी की गयी जिसके कारण यह नष्टï प्राय: हो गयी। कई सालों बाद वास्तुकार व्लादो और उनके निकट सहयोगी फ्रांसिसी वास्तुकार फ्रैंक गैरी  ने इसका डिज़ाइन वर्ष 1992 में तैयार किया। उसके चार साल के बाद वह वर्तमान रूप में आया। उस समय बिल्डिंग की डिज़ाइन को लेकर काफी विवाद भी रहा। विवाद के पीछे मुख्य कारण यह था कि इसका डिज़ाइन लीक से हटकर तैयार की गयी थी, जो शायद चेक परम्परा के अनुसार नहीं था। लेकिन चेक राष्ट्रपति Václav Havel ने इसका सर्मथन किया। उनका कहना था कि मुझे उम्मीद है कि यह बिल्डिंग कल्चरल एक्टिविटी का सेंटर बनेगा। इसका वास्तविक नाम फ्रेड एंड जिंजर, एस्टैयर और जिंजर रोजर्स के बाद पड़ा। इसका यह नाम हाउस के अस्पष्ट नर्तकों की एक जोड़ी जैसा दिखता है। डांसिंग हाउस नये अलंकृत स्वरूप और नये गौथिक शैली का मिश्रण है। इसका सुन्दर वास्तुकला पूरे चेक गणराज्य में प्रसिद्ध है। कुद लोग इस घर को ड्रंक हाउस के नाम से भी पुकारते हैं। डांसिंग हाउस के टॉप फ्लोर पर सिटी का प्रसिद्ध रेस्टोरेंट भी है। यहां से आप विभिन्न तरह के व्यंजनों के आनंद लेने के साथ-साथ प्राग की नयनाभिराम दृश्य भी देख सकते हैं।
कैप्सुल टॉवर
ऊपर दिये गये चित्र कैप्सुल टॉवर का है। इस टॉवर का नाम नाकागिन कैप्सुल टॉवर है। यह जापान की राजधानी टोकियो के शिमबाशी नामक स्थान पर स्थित है। इस बिल्डिंग का इस्तेमाल ऑफिस स्पेस और रेसीडेंशल दोनों रूप में हो रहा है। इस अनोख बिल्डिंग के वास्तुकार किशो कुरोकावा है। इसे वर्ष 1972 में बना लिया गया था। जापान के युद्ध के बाद सांस्कृतिक पुनरूत्थान के द्योतक के रूप में यह एक दुलर्भ निर्माण है, जो उभरता जापान की शक्ति को दर्शाता है। यह बिल्डिंग पूरे विश्व के निर्माण की दुनिया का पहला उदाहरण है, जो कैप्सुलनुमा आकार में है। इस आकार में इसका इस्तेमाल होना अपने आप में इसे अजूबा बना रहा है। वास्तव में यह बिल्डिंग दो इंटरकोनेक्टेड कंक्रीट टॉवर से जुड़ा हुआ है। इसका 11 वीं मंजिल और 13 वीं मंजिल के जुडऩे से इसका वास्तविक निर्माण हुआ है। बिल्डिंग में 140 कैप्सुलनुमा पूर्वनिर्मित मॉड्यूल्स के रूप में है। प्रत्येक मॉड्यूलस एक यूनिट के रूप में है। प्रत्येक कैप्सुल 2.3 m (8 ft) × 3.8 m (12 ft) × 2.1 m (7 ft)  की लंबाई, चौड़ार्अ और ऊंचाई में है। ये कैप्सुल में ही ऑफिस स्पेस और लीविंग स्पेस है। यह कैप्सुलनुमा आकार बड़े स्पेस से मिला हुआ है जो जुड़कर मज़बूती से टिका हुआ है। प्रत्येक कैप्सुल एक मुख्य छड़ से जुड़ी हुयी है जो चार उच्च तनाव वाले बोल्ट से जुड़े होने के कारण दृढ़ और मज़बूती से टिका हुआ है। इसे चाहे तो हटाया भी जा सकता है लेकिन अभी तक इसमें कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। यहां पर बने रूम बेचलर्स और नौकरी-पेशा से जुड़े लोगों को लक्ष्य रखकर बनाया गया है। यहां पर बने अपार्टमेंट में दीवार के साथ होम अप्लाइंस जैसे किचन स्टोव, रेफ्रीजेरेटर, टेलीविज़न सेट और रील टू रील टेप डेक आदि की समुचित व्यवस्था की गयी है। बाथरूम की व्यवस्था दीवार की विपरित दिशा में की गयी है। बेड के ऊपर गोल आकार में खिड़की लगी हुयी है, जो रूम के अंत तक विस्तृत है। प्रत्येक कैप्सुलनुमा आकार हल्के स्टील पुलिंदा, जस्ती में सजे बक्से, रिब वेल्डेड संरचना स्टील पैनल से मज़बूती से जुड़ी हुयी है

LEAVE A REPLY