अनोखा घर

0
176
ईरान की दुल्हन के रूप में प्रसिद्ध इस स्थान पर स्थित अनोखा घर दुनिया भर के पर्यटकों को आकर्षित करता है। यह स्थान सुषुप्त ज्वालामुखी पर्वत पर बसा हुआ है। ईरान के प्रसिद्ध शहर ताबरिज़ के दक्षिण में यह स्थित है। यहां पर करीब 17 पर्वत चोटियों हैं जो करीब 3000 मीटर से ज्यादा ऊंचाई पर हैं। इस पवर्त श्रृखंला प्रकृति की गोद में लिपटी हुई नज़र आती है। यहां पर तरह-तरह के पेड़-पौधे और जीव-जंतु पाए जाते हैं। यहां की प्राकृतिक सुंदरता को देखकर ही इसे ईरान की दुल्हन कहते हैं।
Google Image
मध्य-पूर्व में स्थित ईरान की सभ्यता और संस्कृति बहुत प्राचीन और गौरवपूर्ण है। प्राचीन समय में इसे पर्सिया के नाम से पुकारा जाता था। यहां के रहन-सहन के तौर -तरीके विश्व के हर सभ्यता के लोगों को प्रभावित किया है। मध्य-पूर्व एशिया की राजनीति में इसका महत्वपूर्ण स्थान है। मध्य काल से लेकर आधुनिक काल तक इस देश ने कई झंझावतों को झेला है। खासकर, मध्य कालीन पर्सिया में चीनी अक्रांता चंगेज खां ने जमकर उत्पात मचाया था। उसने करीब यहां की आधी आबादी को अपने पैरों तले रौंद डाला था। यह घटना करीब 12वीं और 13 वीं शताब्दी के मध्य का है। उस समय विश्व के अधिकांश देशों में विदेशी आक्रांता हमला करते रहते थे। इन हमलों से बचाव के लिए तरह-तरह के उपाय करने पड़ते थे। इस उपाय का एक रूप आप यहां इन चित्रों के सहारे देख रहे हैं। जो चित्र यहां दिखाया जा रहा है, वह ईरान में  बने पुराने घरों का है। यह घर के बारे में अनुमान है कि यह 700 वर्ष  से भी पुराना है।
Google Image

यह घर भले ही देखने में थोड़ा-बहुत अजीब तो लगता है लेकिन यह ईरान की गौरवशाली सभ्यता और संस्कृति की प्रतीक माना जाता है। यह ईरान के उत्तर-पूर्व में माउंट सहंद (Mount Sahand )के पास स्थित है। यह प्रसिद्ध स्थान कांदोवन (Kandovan) गांव के नाम से विख्यात है। इसे यहां के ज्वालामुखी चट्टान  को काटकर इस रूप में ढाला गया है। यह घर देखने में जरा हटकर लगता है। इस स्थान से अजैरबेजान की सीमा सटती है, इसी कारण इस स्थान को अज़ारबैजान( Azarbayjan) भी कहा जाता है। यहां पर कुछ घर दो मंजिले हैं तो कुछ चार मंजिल तक के हैं।

Google Image

प्राय: यहां पर ग्राउंड फ्लोर का इस्तेमाल माल-मवेशियों को पालने में किया जाता है और सेकेंड फ्लोर का प्रयोग रहने में होता है। इन अनोखे घरों का टॉप फ्लोर का प्रयोग स्टोर रूम के रूप में किया जाता है। ज्यादातर घरों का मुख दक्षिण की ओर है, ताकि घर में रहने वालों को दिन-भर रौशनी मिलती रहे। इस घरों में लगी खिड़कियां ग्लास की है, जो काफी आकर्षक और सुंदर है। इन घरों में हवा आने की ऐसी व्यवस्था की गई है, जो घरों को ठंड में गर्म और गर्म में ठंड रखे। कुल मिलाकर प्र्राकृतिक एसी का मजा आप इन घरों में ले सकते हैं।

Google Image

वर्तमान में यह घर आधुनिकता के रंग में रंग चुका है। सारी अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ यह घर मॉडर्न घरों की दुनिया को नये सिरे से परिभाषित कर रहा है। यहां के घरों को बिजली और पानी की सुविधाओं के साथ अन्य सुविधाएं भी मिलने लगी है। मान्यता है कि सहंद में पाए जाने वाले पानी पीने से किडनी की बीमारी दूर हो जाती है। इसलिए ज्यादातर पर्यटक इन बातों का विश्वास करके यहां आते हैं। यहां पर उपलब्ध पानी खेती-बाड़ी और पशु पालन में काम आता है। यह स्थान ईरान के सबसे ऊंची पर्वत श्रृखंला के अन्तर्गत आता है। इस पर्वत श्रृंखला के उत्तर में विंटर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का भी निर्माण किया गया है। इस स्र्पोट्स कॉम्प्लेक्स को सहंद स्कीइंग स्टेडियम (Sahand Skiing Stadium) भी कहा जाता है। यहां पर आने वाले विजिटर्स के लिए तरह-तरह के खेल की सुविधा प्रदान की गई है। जिसमें मुख्य रूप से स्काईंग और स्नोर्बोडिंग है। यहां पर प्रत्येक साल मीड विंटर में स्नो स्टेच्यू प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। इस प्रतियोगिता में देश भर के प्रसिद्ध कलाकार भाग लेते हैं। यह प्रतियोगिता को देखने देश और विदेश भर के पर्यटक आते हैं।

Google Image

यहां पर रॉकी नामक प्रसिद्ध होटल भी आकर्षण के केंद्र में है। यह होटल गांव के हृदयस्थली में स्थित है। पांच सितारा होटल काफी प्रसिद्ध है। ईरान में यह अपने आप में पहला ऐसा होटल है, उसके बाद विश्व में तुर्की के बाद दूसरा ऐसा होटल है, जो सारी सुविधाओं से लैस है।

Google Image

युद्ध की स्थिति में इस स्थान का काफी महत्व हो जाता था। ज्यादातर लोग अपनी जान और माल की रक्षा के लिए इस स्थान पर आश्रय लेते थे। समय के साथ सब कुछ बदल रहा हो तो भला यह प्रसिद्ध स्थान इस मॉडर्र्न युग के प्रभाव से कब तक सकता था। यहां पर भी अब मॉडर्न दुनिया का प्रभाव स्पष्ट दिखाई देता है। अब ये घर हाउसिंग कॉम्प्लैक्स का रूप ले चुका है। यहां पर किचिन रूम, लीविंग रूम, डायनिंग रूम और शानदार फर्श से सजा हुआ, आधुनिकता के रंग में रंगा हुआ नज़र आता है। कुछ घरों में गांव वालों ने रंग-बिरंगे ग्लास की खिड़कियां भी लगा चुके हैं जो देखने में काफी मनोहारी प्रतित होती  है।

Google Image

यह स्थान ईरान के दो प्रसिद्ध शहर ओस्कु और तारबिज़ के नज़दीक ही स्थित है। यहां पर जाने के लिए आपको कार या बस का सहारा लेना होगा। इस स्थान को आप दूर से ही बड़ी आसानी से पहचान सकते हैं क्योंकि इसका भू-आकृति बताता है कि यहां पर कुछ खास है, जो आकर्षित करता है। यह अनोखा गांव चारों तरफ से हरियाली के आगोश में है। यह सदाबाहर स्थान अल्पाइन के पेड़ों से एक अलग ही दुनिया बसा ली है। यहां के घर का रूप-रेखा और साज-सज्जा को देखकर आप सहसा चौंक भी सकते हैं, क्योंकि घरों की बनाबट इतनी विचित्र लगती है कि आप को लगेगा कि यह स्थान रहस्मयी दुनिया से तो कहीं तालुक्कात नहीं रखता है। घरों का रूप ज्यामीतिय गणित के अनुसार कई रूपों और एंगल में दिखाई देता है। यह सब इतना अलग है कि आप ऊपरी तौर पर जब इन घरों को देखें तो पता ही नहीं चलता है कि इन घरों के अंदर भी एक अलग दुनिया हो सकती है। कुछ घरों का रूप होटल में तब्दिल हो चुका है, तो कुछ घर शॉपिंग के लिए खास बन गया है। यहां के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती-बाड़ी और पशुपालन है। यहां पर भेंड़ों का पालन मुख्य रूप से किया जाता है। लेकिन अब यह विश्व के प्रमुख पर्यटक स्थल में आने के कारण यहां पर आने वाले टूरिस्टों से यहां के निवासियों को अच्छी आमदनी हो जाती है। इन अजीब घरों से इनकी आमदनी दिन-प्रति-दिन बढ़ती जा रही है। दुनिया भर के पर्यटक यहां आकर प्रकृति के इस नायाब तोहफे को देखकर आत्मविभोर से हो जाते हैं।

Google Image

यहां पर 5 स्टार होटल को एक घर से दूसरे घर से जोड़कर और पत्थरों के सहयोग से काफी मज़बूत और उम्दा बनाया गया है। यहां आने वाले आगुन्तकों की स्वागत में यह होटल मेजबानी में  महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह होटल के पास ही कई कैफटेरिया हाउस भी है, जहां पर आप गरमा-गरम कॉफी और स्वादिष्ट ज़ाम-ज़ाम जूस का आनंद ले सकते है। बगल में बहने वाली नदी और गुलाबों से सुसज्जित गार्डन यहां का माहौल इतना खुशनुमा कर देता है कि आप का मन यहां रम जाएगा। प्रकृति के इस उपहार के नयनाभिराम दृश्य ऐसे मन-मस्तिष्क ऐसे बनते हैं कि आप वर्षों तक इस स्थान को याद रखेंगे और साथ में खीचें गए सुन्दर फोटोग्राफी को यादों के झरोखों में सहेज कर रख सकते हैं। तो देर किस बात की, आप भी इस स्वपन सरीखें दुनिया से रूबरू हो आइए।

Google Image

हां का ज्वालामुखी सुषुप्त अवस्था में है। ईरान के प्रसिद्ध शहर ताबरिज़ के  दक्षिण में यह स्थित है। इस पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊंची चोटी का नाम कमाल है, जो करीब 3,707 किमी. की ऊंचाई पर है। यहां पर करीब 17 पर्वत चोटियों हैं जो करीब 3000 मीटर से ज्यादा ऊंचाई पर है। इस पवर्त श्रृखंला प्रकृति की गोद में लिपटी हुई नज़र आती है। यहां पर तरह-तरह के पेड़-पौधे और जीव-जंतु पाए जाते हैं। यहां की प्राकृतिक सुंदरता को देखकर ही इसे ईरान की दुल्हन कहते हैं।

Google Image

इन स्थानों पर जो घरों का निर्माण किया गया है, वह मंगोल के आक्रमण के प्रभाव से बचने की तैयारी थी। इस विस्तृत ज्वालामुखी पवर्त को गुप्त रूप से काटकर यहां पर घरों का निर्माण किया गया। यह स्थान विदेशी आक्रांताओं के दुष्प्रभाव से बचने के लिए काफी सुरक्षित माना जाता था। ऊपरी तौर पर देखने पर लगता ही नहीं था कि यहां पर लोग रह भी सकते हैं।

LEAVE A REPLY