बचाएं पैसा ताकि हर मुश्किल हो आसान

0
58

जैसे बूंद-बूंद से घड़ा भरता है, ठीक उसी प्रकार से एक-एक रूपये की बचत से वर्तमान और भविष्य दोनों सुरक्षित रहता है। यह बात भी सही है कि आजकल के दौड़ में जहां एक बेहतर जिन्दगी जीना आसान नहीं रह गया है, ऐसी परिस्थिति में पैसा बचत करना थोड़ा मुश्किल भरा कदम हो सकता है लेकिन आप बेहतर प्लानिंग करें तो यह काम भी आसान हो सकता है। अनिश्चितता भरे संसार में आपको सबसे पहले आर्थिक स्थिरता के बारे में उपाय करने ही चाहिए।

मुश्किल भरा दौड़ जि़न्दगी में पूछ कर नहीं आता है। परिस्थिति विपरित होने पर हौसला पस्त होने लगता है। इस हौसला को बरकरार रखने के लिए पैसे की बचत करना काफी महत्वपूर्ण है। इसके मद्देनज़र आप अपने मन में कभी-कभी यह ज़रूर सोचा होगा कि क्या हम अपने मुश्किल दिनों के लिए पैसे बचाए हैं ? अगर कोई आपात स्थिति आए तो मैं इसे कैसे मैनेज करूंगा? घर के डाउन पेमेंट के लिए मेरे पास पैसा है या नहीं? अपने ब’चों की ऊंची शिक्षा के लिए मेरे पास रकम होगी या नहीं? और क्या मेेरे ऊपर कजऱ् है? इस सब सवालों का उत्तर भी आप अपने मन-मस्तिष्क में ज़रूर सोचा होगा। आप निष्कर्ष पर पहुंचे होंगे कि इन सभी सवालों का हल पैसे की बचत में समाहित है। बढ़ती महंगाई के इस जमाने में पैसे की बचत करना भले ही थोड़ा मुश्किल ज़रूर है लेकिन असंभव नहीं। एक बेहतर रणनीति के साथ घर का बजट तैयार करें तो सब कुछ धीरे-धीरे आसान होने लगेगा। इस मामले में आपको पता होना चाहिए कि आपकी गाढी मेहनत की कमाई कहां खर्च हो रही है। और इस दिशा में आपका सबसे पहले कदम होगा एक सेविंग प्लान लेना। यहां पर आप सोच रहे होंगे कि बंधी-बंधाई आमदनी में से आप अपने खर्चे पूरे कर लें, यही बहुत है, ऐसे में बचत कैसे होगी।
सबसे पहले देखें कि आपको खर्च कहां हो रहा है। हर महीने के खर्च के लिए एक डायरी रखें, कॉफी ब्रेक से लेकर घर के सामान पर खर्च हुए एक-एक पैसे का हिसाब रखें। आपको हैरानी होगी कि इन्हीं जगहों से आपको सबसे ‘यादा पैसा बचाने की जगह मिलेगी। अपना बजट बनाना उतना मुश्किल भी नहीं है जितना आप सोच रहे हैं। खर्चों और व्यय के लिए लक्ष्य बनाकर चलें। जो तय खर्चे हैं जैसे कि घर का किराया, विभिन्न प्रकार के बिल, कार लोन-होम लोन की किश्तें, क्रेडिट कार्ड के बिल उनमें तो कांट-छांट नहीं हो सकती है। हां, लेकिन घर के सामान और कपड़ो के लिए खर्च की सीमा रखें, साथ ही मनोरंजन और यात्राओं के लिए भी तयशुदा सीमा से ‘यादा खर्च ना करें। आपकी सबसे बड़ी प्राथमिकता आपात स्थिति के लिए एक फंड बनाकर रखना होनी चाहिए। अगर आपने इसके बारे में नहीं सोचा हो तो सबसे अ’छा विकल्प यही होगा कि आपकी आय में से हर महीने कुछ पैसा इसके लिए कटता रहे और इस पैसे को आप फिक्सड या रिकरिंग डिपॉजिट में रख सकते हैं। महंगाई के इस जमाने में बचत करना इतना आसान नहीं रह गया है। आपकी वेतन वहीं की वहीं है लेकिन जिस चीज़ की कीमत छह महीने पहले 3 रुपये थी, आज वह बढ़कर पांच रूपये तक हो चली है। गौरतलब है कि मार्केट में जिस चीज़ की कीमत एक बार बढ़ जाती है, विरले ही देखने को मिलता है इसकी कीमत घट जाए। खासकर, दैनिक उपभोग में खाने वाली
चीज़ों के दाम रफ्तार में ही दिखाई देता है। ऐसी स्थिति में आप अपने और अपने बगो के भविव्य को लेकर चिन्तित रहते है। क्योंकि महंगाई के हिसाब से बगाों को सही शिक्षा देना इतना आसान नहीं रह गया है । बेहतर यह है कि आप समय रहते एक बेहतर चाइल्ड प्लान लेकर अपने बगो की भविष्य को सुरक्षित कर लें।
बढ़ती महंगाई को देखकर ज्यादातर लोग परेशान हैं। इसकी रफ्तार को देखकर आमदनी मुसीबत में है। घर का पूरा का पूरा बजट इसके कारण कोमा में चला गया है। कुल मिलाकर आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपये वाली स्थिति हो गई है। इस परिस्थिति में ज्यादातर लोग अपने और अपने बगो की भविष्य को लेकर चिन्तित रहने लगे हैं। खासकर, महंगी शिक्षा, भविष्य को लेकर अस्थिरता और करियर को लेकर बढ़ती चिंता ने तो नींद उड़ा दी है। उन्हें अपने उस मासूम ब’चे के भविष्य को लेकर चिंता सताने लगी है। इस बढ़ती महंगाई के ग्राफ में सही शिक्षा देना इतना आसान नहीं रह गया है। बेहतर शिक्षा दे पाना एक प्रकार से पैरेंट्स के लिए आज एक चुनौती हो गया है। ऐसे में प्लानिंग सबसे कारगर साबित होती है। ब’चे की शिक्षा और भविष्य में होने वाले खर्चों का सामना करने के लिए एक बेहतर चाइल्ड प्लान बेहद उपयोगी होता है। यह प्लान एक निवेश के तरह ही है। जिसमें निवेश करके व्यक्ति भविष्य के लक्ष्यों को हासिल कर सकता है। साथ ही ज़रूरत के समय भी यह निवेश मददगार साबित होता है। एक्सपर्ट के अनुसार एक बेहतर चाइल्ड प्लान में किया गया निवेश उसी तरह बढ़ता है जिस तरह समय के साथ आपके ब’चे भी बड़े होते हैं। चाइल्ड प्लान को लेते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों को ध्यान रखें तो वर्तमान के साथ भविष्य भी सुरक्षित हो सकता है। कोई भी चाइल्ड प्लान लेते समय पहले प्रपोजल फॉर्म में दी गई सारी जानकारी अ’छी तरह से पढ़ लें। वहीं साथ ही प्लान लेते समय यह ध्यान रखें कि भविष्य में यदि आप न हों तब ये प्लान ब’चे का सहारा बन सके। प्लान लेते समय इस बात का ध्यान रखें की आप जो प्लान ले रहे हैं वह चाइल्ड प्लान ही है, क्योंकि कई बार चाइल्ड प्लान के नाम पर धोखाधड़ी हो जाती है। इसलिए ज़रूरी है कि प्लान लेते समय यह जांच लें कि जो प्लान आप ले रहे हैं वह चाइल्ड प्लान ही है या कोई दूसरा प्लान जिसे अक्सर चाइल्ड प्लान के नाम पर आपके हाथ में थमा दिया जाता है। इसके बाद एक महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको सही चाइल्ड प्लान को लेने के लिए एक्सपर्ट बताते हैं कि चाइल्ड प्लान एक इंश्योरेंस प्लान है। जो एंडॉवमेंट और यूलिप दोनों की स्वरूपों में उपल्बध है। साथ ही समय समय पर यह आपको रिटर्न भी देता है। प्लान लेते समय यह सुनिश्चित कर लें प्लान की मै’युरिटी पर मिलने वाली राशि आपके ब’चे की ज़रूरतों को पूरा कर पाएंगे या नहीं।

LEAVE A REPLY