इंटीग्रेटिड टॉउनशिप

0
71

बदलते वक्त के साथ कॉन्सेप्ट भी बदल रहा है। जहां एक घर के  सपने को पूरा करना येन-केन-प्रकारेण से पूरा करना जरूरी था लेकिन इस कान्सेप्ट को काफी हद तक वक्त की रफ्तार ने बदल कर रख दिया है। आप घर सारी अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस लेना चाहते हैं या बनाना चाहते हैें। जब इस कॉन्सेप्ट को लेकर आप इतना संजीदगी दिखा रहे हैं तो रियल एस्टेट के डेवलपर्स पीछे कैसे रहे? कहावत है कि जो दिखता है, वह बिकता है घर चाहे छोटा सा क्यों न हो उसका सपना हर कोई देखता है।
घर में रहने वाले ले लोगों के लिए सुरक्षा सहित और कई सुविधाएं महत्व रखती है। इस लिहाज से हर घर में आजकल बिल्डर्स गेटिड कम्युनिटी प्रोजेक्ट्स पर ज्यादा जोर दे रहे हैं। जहां रहने वाले लोग अपने आपको पूर्ण रूप से सुरक्षित महसूस कर करते हैं। ग्रेटिड कम्युनिटी प्रोजेक्ट्स की यह खासियत होती कि यह अन्र्तराष्टï्ीय स्तर के रेशिडेंसल जोन में स्थित होती है तथा इनमें उच्च स्तरीय सुरक्षा प्रदान की जाती है। हालांकि यह कॉन्सेप्ट विदशों से आयात किया गया है लेकिन आजकल भारत में भी यह प्रचलन में लाया जाने लगा है।
वैसे इस तरह के कम्युनिटी को अक्सर इंटीग्रेटिड टॉउनशिप या प्लांट टाउनशिप भी मान लिया जाता है। लेकिन इन दोनों में काफी अंतर होता है। इंटीग्रेटिड टाउनशिप के अन्तर्गत गोल्फ कोर्स, स्पा, सोशल क्लब, स्र्पोट्स क्लब तथा आधारभूत सुविधाएं जैसे स्कूल, ऑफिस, शॉप्स, पार्क आदि कुछ ही दूरी पर स्थित होती है। लेकिन गेटिड कम्युनिटीज में चारों तरफ से सुरक्षित घेरा उच्च स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था को ज्यादा महत्व दिया जाता है। राजधानी दिल्ली और एनसीआर के अलावा इस तकनीक को काफी ज्यादा तरजीह दी जाने लगी है और आने वाले समय में लोगों की लाइफ स्टाइल में काफी बदलाव भी ला सकता है। अब के घर पहले की तरह नहीं रहे, इसलिए उनमें सुरक्षित वातावरण, वास्तुशास्त्र और इंटीरियर, एक सौ प्रतिशत पॉवर बैकअप, आधुनिक तकनीक से परिपूर्ण भूकंपरोधी इमारत आदि का ध्यान निर्माण के समय से ही दिया जाने लगा है।
इस तरह की सुविधाओं से सजे घरों की डिमांड आने वाले भविष्य में और अधिक बढेगी।  यदि बात करें इस तरह की टाउनशिप के बढते चलन की तो रियल एस्टेट में इनके बढने का एक और कारण है जमीन से तेजी से होती जा रही कमी। इसलिए कई डेवलपर्स छोटे शहरों की ओर रूख कर रहे हैं और वहां पर बेहतरीन इन्फ्रास्टक्चर का इस्तेमाल कर उन शहरों को विकसित कर रहे हैं। सुनियोजित ढंग से बनी इस तरह की टाउनशिप में मुख्य रूप से सुरक्षा, स्वच्छ वातावरण, सोशल क्लब, स्कूल, हॉस्पिटल, शॉपिंग मॉल, मल्टीप्लेक्सस, बेहतरीन आधारभूत ढांचा, सावधानी से किए गए घर के डिजाइन, रेगुलर यातायात व्यवस्था , सौ फीसदी पॉवर बैकअप, स्टैंर्ड एयरकंडीशन आदि की प्रमुखता दी जाती है। रियल एस्टेट उद्योग में कई वर्षों से काम कर रहे बेस्ट ग्रुप क एमडी श्री हरजीत सिंह अरोडा का नये कॉन्सेप्ट के बारे में कहना है कि शहरीकरण के बढते चलन और सिंगल फैमिली के बढते रिवाज ने टाउनशिप को बढावा दिया है। ज्यादातर फैमिली घर खरीदते समय सुरक्षा और ऐसी कई सुविधाओं को ढूंढती है, जो आम तौर पर फ्लैट्स या अन्य घरों में नहीं मिल पाती है। साथ ही साथ श्री अरोडा का कहना है कि एक अच्छी टाउनशिप में यदि यह कॉन्सेप्ट यूज किया जाता है तो उसकी वैल्यू काफी बढ जाती है क्योंकि इनमें अन्तर्राष्टïीय स्तर की भव्यता, हाईटेक सुरक्षा आदि होती है। ताकि कस्टमर्स सटिसफाइड हो सकें। इस तरह की टाउनशिप के निर्माण से छोटे-छोटे शहरों की सूरत बदलने की काफी क्षमता होती है और यह देखने में भी आ रहा है।  अपनी बेहतरीन  इन्फ्रास्टक्चर तथा कठोर सुरक्षा व्यवस्था के द्वारा लोगों के जीवन स्तर को और भी ज्यादा हाईटेक बनाने में इन टाउनशिप का ज्यादा योगदान माना जा सकता है। कुल मिलाकर प्रॉपर्टी के बाजार में नये-नये कॉन्सेप्ट आते जा रहे हैं, जिनका इस्तेमाल फ्लैट्स, टाउनशिप में तेजी से किया जा रहा है। इस तरह के निर्माण से रियल एस्टेट का व्यापार काफी तेजी से बढता भी दिखाई दे रहा है।  आने वाले समय में छोटे-छोटे शहरों में जब इंटीग्रेटिड कॉन्सेप्ट का परिदश्य दिखलाई देगा तो निश्चियत रूप से यह रियल एस्टेट की सही तस्वीर होगी।

LEAVE A REPLY