नैसर्गिक खूबसूरती का सरताज-एडिनबर्ग

0
106

हरियाली का प्रतीक एडिनबर्ग को यूरोप में वास्तु और नगर योजना के अनुसार सबसे खूबसूरत शहर कहा जाता है। इसी कारण इसे नार्थ एथेंस की संज्ञा दी जाती है। यहां पर स्कॉटलैंड की सीमा समाप्त होती है। सीमा पर होने के कारण यह शहर हमेशा दुश्मनों से लोहा लेता रहा है। यहां अतीत के भयावह मंजरों को अपने सीने में समाए कई किले भग्नावशेष के रूप में आज भी खड़े हैं। कहते हैं, यह शहर हमेशा से इंग्लैंड के ताज की रक्षा करता रहा है। यहां केवल ऐतिहासिक चिन्ह ही नहीं बल्कि काफी कुछ और भी है। खासकर यहां की नदियों, पहाडिय़ों, वादियों की नैसर्गिक खूबसूरती देखते ही बनती है।

एडिनबर्ग को दुनिया के खूबसूरत शहरों में गिनती की जाती है। यह स्कॉटलैंड की राजधानी है। यह इंग्लैंड का सातवां सबसे बड़ी सिटी होने के साथ, यह स्कॉटिस सिटी के अन्तर्गत ग्लासगो के बाद दूसरी सबसे बड़ी सिटी भी है। यह स्कॉटलैंड के 32 लोकल स्थानिय कौंसिल सिटी में से एक है, जो दक्षिण-पूर्व में स्थित एडिनबर्ग ईस्ट कोस्ट के सेन्ट्रल बेल्ट के साथ लगा हुआ फर्थ फोर्थ नॉर्थ सी के पास है। मध्यकाल और ग्रेगोरियन समय के वास्तुकारों ने इस शहर को एक अनोखे रूप में ढ़ाला है। खासकर पत्थरों के सहारे इसके ऊपर-नीचे की भौगोलिक स्थिति को घरों का रूप देखकर आप दांत तले उंगली दबा लेंगे। इसी फीचर के कारण इसे यूरोप के सबसे बेहतरीन शहरों में से एक कहा जाता है। यह शहरी और ग्रामीण दोनों ही इलाकों का मिला-जुला रूप है, जो करीब 78 किमी. में फैला हुआ है। स्कॉटलैंड की राजधानी वर्ष 1437 से पूर्व डफरीन थी, जो बाद में एडिनबर्ग में परिवर्तित हो गयी। उत्तर के एथेंस के नाम से मशहूर यहां का प्रसिद्ध यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी ऑफ एडीनबर्ग बौद्धिक जगत के लिए मक्का से कम नहीं है।
एडिनबर्ग दो मुख्य शहरों में विभाजित है। जहां एक ओर ओल्ड टाऊन में पुरानी सभ्यता, कला और संस्कति की झलक मिलती है, वहीं दूसरी तरफ न्यू टाऊन आधुनिकता के रंग में रंगा हुआ नज़र आता है। इन दोनों ही शहरों को यूनस्को ने विश्व विरासत की सूची में वर्ष 1995 में शामिल कर लिया है। इस प्रसिद्ध शहर में करीब 4500 प्रमुख बिल्डिंग हैं, जो अपनी एक अलग पहचान रखती हैं। वर्ष 2001 के जनगणना के मुताबिक एडिनबर्ग की जनसंख्या करीब 5 लाख थी। यह शहर को वार्षिक उत्सव के शहर के रूप में भी जाना जाता है। यहां साल में अगस्त महीने के चार सप्ताह तक उत्सवों का दौर अपने चरम पर रहता है। एडिनबर्ग में उत्सव के कार्यक्रम आकर्षण के केन्द्र में होते हैं। दुनिया भर के लोग यहां फेस्टिीव सीजन का लुत्फ उठाने आते हैं और यहां के आवो-हावा इनको इतना भाता है कि यहीं के होकर रह जाते हैं। दुनिया का सबसे बड़ा परफार्मिंग आट्र्स फेस्टिवल एडिनबर्ग फ्रीन्ज, सबसे बड़ा कॉमेडी फेस्टिवल, इंटरनैशनल फेस्टिवल, मिलिट्री टैटू, इंटरनैशनल बुक फेस्टिवल ये सारे फेस्टिवल एडिनबर्ग की परम्परा और संस्कृति की पहचान है। यहां Hogmanay स्ट्रीट पार्टी, बर्नस नाइट पार्टी, St. Andrew’s Day पार्टी और the Beltane Fire Festival बेल्टेने फायर फेस्टिवल प्रसिद्ध है और यह रोमांच ही आज आधुनिक एडिनबर्ग की पहचान बन चुका है। लंदन के बाद सबसे ज्यादा पर्यटक यहीं आते हैं।
इतिहास के पन्नों
इस प्रसिद्ध क्षेत्र के इतिहास का जिक्र लौह युग और कांस्य युग के समय ही आता है। मानव उद्भव के अस्तित्व के कई पहचान इन प्रसिद्ध इलाकों के आस-पास हॉलीरूड, क्रेगलॉकहॉर्ट हील, पेंटलैंड्स में प्रारम्भिक प्रस्तर युग में ही दिखाई देती हैं। वास्तविक रूप में इस प्रसिद्ध शहर की नींव ग्रेट ब्रिटेन के पूर्व एनगिलीयन राज्य के मुख्य भाग नार्थ अमब्रिया राज्य के अन्तर्गत पड़ी, जो प्रसिद्ध नदी हंबर से संर्कीण सागर शाखा आगे के हिस्सा का एक प्रमुख भाग था, जो अब कैसल रॉक से घिरा हुआ है।
नार्थ अम्रबिया राज्य के एक प्रसिद्ध ईसाई शासक ने एडबिन पहाड़ी पर किले का निर्माण कराया ताकि अन्य राज्यों के हमले से बचा जा सके। इस प्रसिद्ध किले को ब्राइथोनिक भाषा में Din Eidyn कहते हैं। ईसाई शासक द्वारा किले के निर्माण के कुछ दिनों बाद कैसलहिल के आस-पास आबादी बसने लगी। इसके बाद इस प्रसिद्ध स्थान पर रियासत को चलाने के लिए कई निर्माण ने एक सुन्दर शहर का रूप ले लिया। यह स्थान विकास के सोपान क्रम को चढ़ते हुये पहले एडीनबर्च के नाम से जाना जाने लगा लेकिन बाद में यह स्थान एडिनबर्ग के नाम से मशहूर हुआ। नार्थ अम्रबिया के प्रसिद्ध शासक St. Oswald  के निधन के बाद Danelaw   के अन्तर्गत यह शहर धीरे-धीरे विकास करता गया। 10 वीं शताब्दी में यह शहर स्कॉटवासी के अधीन रहा। दो सौ साल के बाद इस छोटे से शहर के साथ इसके पूर्व में एक और स्थान का विकास हुआ, जिसे हॉलीरुड कहा जाता था। यहां पर एक व्यवस्थित रूप में शासकों को रहने के लिए यह स्थान प्रसिद्ध हो चुका था। बाद में एडिनबर्ग में Anglo-Saxon का मुख्य रूप से शासन रहा लेकिन कालान्तर में इस स्थान के सीमाई इलाके विवादों के केन्द्र में आ गये। इंग्लैंड और स्कॉटलैंड के बीच मुख्य विवाद के पीछे इसका बॉर्डर इलाका ही रहा। इंग्लैंड ने इस Anglo-Saxon  राज्य के अधिकार के खारिज करना शुरु कर दिया। इंग्लैंड ने दावा किया कि यह स्थान हमारे राज्य क्षेत्राधिकार में आता है, जबकि स्कॉटलैंड का कहना था कि सुदूर दक्षिण के हड्रीन के दीवार तक का स्थान हमारा है। परिणाम स्वरूप दोनों के बीच इस मामले को लेकर कई युद्ध भी हुये। एडिनबर्ग का किला इंग्लैंड के अधीन तो आ गया लेकिन 15 वीं शताब्दी तक यहां पर ज्यादा समय तक स्कॉट वासियों का ही नियंत्रण रहा।
इंग्लैंड के प्रसिद्ध शासक James IV    जेम्स ने इंग्लैंड के वर्चस्व को बढ़ाने के लिये स्कॉटलैंड की राजधानी हॉलीरूड को घोषित किया लेकिन सांस्कृति और आर्थिक रूप से इस क्षेत्र में वर्चस्व स्कॉटीश का ही था। वर्ष 1603 में इंग्लैंड का राजा James VI  ने इंग्लैंड के साथ आयरलैंड का भी शासन भार अपने हाथों में ले लिया और उसके बाद उन्होंने एडिनबर्ग किला के ग्रेट हॉल को पहली बार पार्लियामेंट के काम-काज का मूर्त रूप दिया। बाद में इस पार्लियामेंट हॉल को टोलबुथ के नाम से जाना गया। अब यही पार्लियामेंट स्कॉटलैंड के सुप्रीम कोर्ट के रूप में तब्दिल हो चुका है। वर्ष 1639 में इंग्लैंड के राजा चाल्र्र्स प्रथम के द्वारा इन सारे पूर्व के विवादों को खत्म करने के लिए प्रेस्बिटेरियन चर्च और अंग्रेज़ी चर्च को एक योजना के तहत विलयन की मांग की। बिशप युद्धों के नेतृत्व में विभाजित St. Giles’ Cathedral  को पुन: एक करने के लिए अंग्रेज़ों के सीविल वार के नेतृत्व में और ओलिवर क्रोमवेल के राष्ट्रमंडल बलों द्वारा एडिनबर्ग पर अंतिम कब्ज़ा के साथ ही कई जगहों को नुकसान भी इसे उठाना पड़ा। बाद में 1670 ई. में इंग्लैंड के राजा चाल्र्स द्तिीय ने एक कमीशन गठन के द्वारा पुराने हॉलीरुड पैलेस का पुनर्निर्माण किया। यह शहर 17 वीं शताब्दी में आकर ब्रोन्डीज़ ऑफ सिटीज् के नाम से प्रसिद्ध हो गया, जिसके कारण यह रक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने लगा। प्रतिबन्धित क्षेत्र इस इलाके में होने के कारण यह स्थान विकास क्रम में आगे बढ़ता चला गया है और सुरक्षा के लिहाज से ऐसा होना लाजिमी ही था। यहां पर छोटे, मझोले और बड़े बिल्डिंगों ने भव्य नगर का स्वरूप ले लिया और 11 मंजिले बिल्डिंग सामान्य रूप से नज़र आने लगी थी। कई बिल्डिंग तो 14 मंजिल का रूप भी ले चुकी थी । कुल मिलाकर यहां का निर्माण आधुनिक गगनचुम्बी इमारतों के निर्माण के लिए एक प्रकार से मार्ग प्रशस्त किया। पत्थरों के सहयोग से बने कर्ई खूबसूरत बिल्डिंग इस शहर की पहचान बन चुकी थी, जिसे अभी भी यहां के प्रसिद्ध स्थान ओल्ड टाऊन में इसे देखे जा सकते हैं। 19 वीं शताब्दी आते-आते यह शहर लैथ बंदरगाह पर बने निर्माण कार्य से एक पूर्ण विकसित औद्योगिक शहर का रूप ले लिया। यह अलग बात है कि ग्लोसगो शहर बहुत कम समय में विकास के सोपान क्रम में एडीबर्ग को पीछे छोड़ते हुये आगे निकल चुका था। इसकी गिनती एक औद्योगिक, वाणिज्य और व्यापार के केन्द्र के रूप में की जाने लगी। लेकिन स्कॉटलैंड की राजधानी एडिनबर्ग बौद्धिक और सांस्कृतिक विरासत को अपने में समेटे हुये, वर्तमान में इंग्लैंड का सबसे बेहतर और बड़ी सांस्कृतिक स्थल का केन्द्र है। यह प्रसिद्ध शहर दो भागों में प्रिंस स्ट्रीट गार्डन के हरियाली के विस्तृत क्षेत्र से विभाजित है। जहां एक तरफ एडिनबर्ग का दक्षिणी भाग किलों के सौन्दर्य से प्रभावित है और अपनी सभ्यता और संस्कृति के रूप में ओल्ड टाऊन के रूप में प्रसिद्ध है, वहीं दूसरी ओर उत्तरी भाग प्रिंसेस स्ट्रीट और आधुनिकता के रंग में रंगा न्यू टाऊन से घिरा हुआ है।
ओल्ड टाऊन-
यहां के प्रसिद्ध स्थान प्रिंसेस ऑफ गार्डन के उत्तर-पूर्व की ओर बसा यह शहर मध्यकालीन योजनाएं और अन्य कई सुधार युग महत्वपूर्ण भवनों के रूप में संरक्षित किये हुये है। इस शहर का एक किनारा किलों से घिरा हुआ है और इसका एक मुख्य स्थान रॉयल माइल जो छोटी सड़कों से जाते हुये डाउनहिल जो herringbone पैर्टन से सुशोभित है, वास्तव में यह रचना इस स्थान को सुदृढ़ता प्रदान करती है। यह स्थान पर कई खूबसूरत बिल्डिंग हैं जो यहां की शान बढ़ाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रही हैं। खासकर herringbone और लॉ कॉर्टस् इस स्थान की सुन्दरता में चार चांद लगाती हैं।
यहां स्कॉटलैंड का प्रसिद्ध संग्रहालय रॉयल म्यूजियम ऑफ स्कॉटलैंड, स्कॉटिश पार्लियामेंट बिल्डिंग, पैलेस ऑफ हॉलीरुड हाउस, यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग , सर्जन हॉल्स, गुफानुमा गलियां और मैकइवान हॉल प्रमुख दर्शनीय स्थान हैं। यहां के गलियों की रूप रेखा में ज्यादातर क्वाटर्स पुराने नार्थ यूरोप कै पैर्टन पर आधारित हैं और इस निर्माण में यहां की सभ्यता और संस्कृति की झलक देखने को मिलती है। रॉयल माइल के नीचे एक भ्रंश चट्टïानों के शिखर के ग्रीवा के ऊपर बना किलानुमा महल यहां आकर्षण के केन्द्र है। यह किलानुमा महल एक विलुप्त ज्वालामुखी पर्वत के अवशेषï पर बना हुआ है। इस प्रसिद्ध शहर का स्थलाकृति को चट्टानों  के crag and tail  के रूप में जाना जाता है। अंतिम हिम युग में ग्लेसियर के पीछे हटने के कारण और नरम मिट्टी के आगे बढऩे से इस स्थान का निर्माण हुआ। साथ ही इसका भू-आकृति में विविधता के कारण सुरक्षा के दृष्टिकोण में महत्वपूर्ण स्थान बन गया। बाद में ज्वालामुखी चट्टान  के कठिन crags  के द्वारा यह स्थान सुदृढ़ रूप ले लिया, जिसके कारण इसका भाग एक विकसित शहर के रूप में विकसित हो गया , जिसे आधुनिक एडिनबर्ग कहते हैं। कैसल रॉक के स्थान विकास क्रम थोड़ा कमजोर रहा। वास्तव में शहर के दक्षिण और एक झील पर दलदली भूमि के पास रुशष्द्ध साथ एक बड़ी आसानी से बचाव जगह बन चुकी थी। यह स्थान सुरक्षा के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण हो गया था। इसका दक्षिणी भाग के लॉच और उत्तरी भाग में स्थित Loch नॉर लॉच के सहारे सुरक्षा आसानी से की जा सकती थी। इसलिए यहां मुख्य सड़क को विभिन्न प्रकार के फाटकों और दीवारों के माध्यम से एक सुरक्षित क्षेत्र बनाया गया, जिसे खंडयुक्त Flodden दीवार से प्रतिबन्धित किया गया। ओल्ड टाउन कुछ दिनों के बाद ही जल्द से जल्द ही कई महत्वपूर्ण भवनों और आवासीय इमारतों का घर बन गया । यहां पर 1500 से भी ज्यादा इस तरह का घर बनना अपने आप में एक उत्कृष्टï निर्माण के उदाहरण थे। इस स्थान के लिए सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि, जहां 17 वीं शताब्दी में करीब 80,000 रेसीडेंट रहते थे, वहीं आज करीब 20,000 रेसीडेंट रह रहे हैं। 1824 ई. में यहां भीषण अग्निकांड से कई महत्वपूर्ण बिल्डिंग क्षतिग्रस्त हो गयीं। इस घटना के बाद ओल्ड टाऊन के रूप-रेखा में बहुत कुछ परिवर्तन हो गया। ओल्ड टाऊन के Cowgate काउगेट नामक स्थान के कई महत्वपूर्ण बिल्डिंग 7 दिसम्बर, 2007 को अग्निकांड से क्षतिग्रस्त हो गये। इस अग्निकांड में कॉमेडी क्लव और गिलडेड बैलून को बहुत ज्यादा नुकसान झेलना पड़ा था।
न्यू टाऊन-
 न्यू टाऊन में आधुनिकता के रंग में रंगा नज़र आता है। यह एडिनबर्ग के केन्द्रबिन्दु में अवस्थित है। आधुनिक नगर योजना के कारण यह अपना एक अलग ही छटा बिखेरता है। यह स्थान विश्व विरासत सूची में शामिल है। इस स्थान का आधुनिकीकरण वर्ष 1765 से लेकर 1850 के बीच वास्तु युग के neo-classical अवधि में हुआ। पूर्व के नोर लॉच स्थान में भौगौलिक परिवर्तन के कारण यह स्थान अपने नए स्वरूप में आया। प्रसिद्ध प्रिसेंस स्ट्रीट, एडिनबर्ग किला से जुड़े कई महत्वपूर्ण भाग उसके हिस्से हैं। 18 वीं शताब्दी में आकर जब ओल्ड टाऊन में जनसंख्या ज्यादा हो गयी तो यह नये कॉन्सेप्ट के साथ बना। इस सिटी का डिज़ायन तैयार करने के लिये एक प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया था, जिसे जेम्स के्रग नवयुवक वास्तुकार ने जीता। इस सिटी का निर्माण के समय एक आर्दश रूप की संकल्पना तैयार की गयी, जो आधुनिकता होने के साथ मज़बूत और आत्मज्ञान पर केन्द्रित थी। मुख्य सड़क जॉर्ज स्ट्रीट बनाते समय ओल्ड टाऊन के उत्तर में प्राकृतिक रिज के रूप का अनुसरण करना था। इसी बात का अनुसरण करते हुये यहां के प्रिंसेस स्ट्रीट और क्वीन स्ट्रीट का निर्माण किया गया। आज वहीं प्रिंसेस स्ट्रीट आकर्षण के केन्द्र में होने के साथ मुख्य शॉपिंग प्लेस बन गया है। यहां कुछ सुन्दर जॉर्जियाई बिल्डिंग का निर्माण भी किया गया। इन स्ट्रीट को एक दूसरे से जोडऩे के लिए लम्बत दिशा में सड़को की श्रृंखला थी। इसका पूर्वी और पश्चिमी किनारा सैंट एन्ड्रू स्क्वेयर औरCharlotte स्क्वेयर से मिलकर समाप्त हो जाता है। इसे बाद में रॉबर्ट एड्म ने एक खूबसूरत रूप दिया । यहां का जोर्जियाई स्क्वेयर निर्माण की दुनिया में एक अलग पहचान रखता है। यहां बूट हाऊस स्कॉटलैंड के प्रमुख का निवास स्थान है, जो Charlotte स्क्वेयर के उत्तर में स्थित है। नॉर लॉच का प्रमुख स्थान ग्लेन ओल्ड टाऊन और न्यू टाऊन के बीच जल उपलब्धता और सीवर डम्पिंग में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। 1820 में यह स्थान सूखाग्रस्त हो चुका था, लेकिन प्रिंसेस स्ट्रीट गार्डन अपनी अहमियत बरकरार रखी थी।
इन स्थानों पर बिल्डिंग निर्माण से बचा अतिरिक्त अवशिष्ट प्रदार्थ को लॉच में डम्प किये जाने से यहां एक नयी आकृति बननी शुरु हो गयी। जहां 19 वीं शताब्दी के मध्य स्कॉटलैंड के नेशनल गैलरी और रॉयल स्कॉटीश एकेडमी के भवनों का निर्र्माण किया गया। इस नये स्थान ने न्यू टाऊन के आधुनिक रूप बनने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। जिसके कारण इस स्थान को जोर्जियाई वास्तुकला और योजना का बेहतरीन उदाहरण माना जाता है। यहां प्रमुख स्थानों में प्रिन्स  स्ट्रीट, क्वीन स्ट्रीट, सैंट गैल्स स्ट्रीट और रोज स्ट्रीट के नाम आते हैं। न्यू टाऊन को यदि गलियों का शहर कहा जाय तो अतिश्योक्ति नहीं होगी।
लैथ-
लैथ एडिनबर्ग का एक बंदरगाह है, जो अपनी एक अलग पहचान बनाए हुए है। सन् 1920 में जब इस स्थान को बर्ग से मिला दिया गया तो लोगों में गहरा असंतोष छा गया। अपनी अलग पहचान के लिए यह स्थान सदैव आगे रहा है। आज भी एडिनबर्ग नार्थ और लैथ के नाम से यहां के पार्लियामेंट सीट को जाना जाता है। लैथ का विकास क्रम आगे बढ़ता रहा और वर्तमान में यहां की प्रसिद्ध क्रूज कंपनियों द्वारा नार्वे, स्वीडन,डेनमार्क, जर्मनी जैसे यूरोपिय देशों को क्रूज उपलब्ध करा रही है। इस स्थान पर ही Royal Yacht Britannia जो महासागर टर्मिनल और ईस्टर रोड के पीछे स्थित है।
यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग-
 एडिनबर्ग में स्थित यह यूनिवर्सिटी शिक्षा जगत में उपलब्धियों से भरपूर रही है। यह अंतर्राष्ट्रीय  स्तर की शिक्षा और अनुसंधान के लिए प्रसिद्ध है। इसकी स्थापना वर्ष 1582 में हुयी थी। ब्रिटीश द्वीप में यह छठा पुराना यूनिवर्सिटी है, जो अपनी महत्ता के लिए विश्व प्रसिद्ध है। यूर्निवर्सिटी की दुनिया में यह टॉप रैकिंग में है। जहां एक तरफ इसे तीसरे यूरोपियन रिपोर्ट ऑन साइंस एंड टैक्रालॉजी इंडीकेटर द्वारा इसे यूरोप में पांचवा, इंग्लैंड में तीसरा रैंक दिया गया, वहींimes Higher Education Supplement (THES)  द्वारा इंग्लैंड और पूरे यूरोप में पांचवा और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 23 वां रैंक दिया गया। इसे द गार्जियन यूनिवर्सिटी गाइड द्वारा वर्ष 2008 में इस यूनिवर्सिटी को इंग्लैंड में 7 वां, कम्प्यूटर साइंस और  भौतिकी में प्रथम स्थान एवं चिकित्सा व पशु चिकित्सा विज्ञान में दूसरा स्थान दिया। दुनिया भर के कई हस्तियां इस प्रसिद्ध यूनिवर्सिटी से पढ़ चुके हैं। प्रसिद्ध अर्थशास्त्री एड्म स्मिथ, इंग्लैंड के प्रधानमंत्री गोरडॉन ब्राउन, लॉर्ड पामर्सटन, लॉर्ड जॉन रसेल, प्रसिद्ध अन्वेषक एलेक्जेंडर ग्राहम बेल, चाल्र्स डार्बिन,प्रसिद्ध उपन्यासकार सर ऑथर कॉनन डॉयल, दार्शनिक डेविड हूम जैसे हस्तियां इस यूनिवर्सिटी की शान हैं। यह यूनिवर्सिटी इस शहर के वातावरण में उमंग और जोश पैदा करने में महत्वपूर्ण योगदान दे रही है। इस यूनिवर्सिटी में स्टॉफों की संख्या 2752 और स्टूडेंटस की संख्या वर्ष 2007-08 में 24,220 थी, जिसमें अंडर ग्रेजूएट स्टूडेंटस की संख्या 16,980 और पोस्ट ग्रेजूएट स्टूडेंट्स की संख्या 7,240 थी। कुल मिलाकर प्रकृति की गोद में बसा एडिननबर्ग वास्तव में एक ऐसा शहर है, जो अपने वर्तमान और अतीत दोनों का याद दिलाता है.

LEAVE A REPLY