रियल्टी हब दिल्ली-एनसीआर

0
180
रियल्टी हब के रूप में प्रसिद्ध दिल्ली एनसीआर रहने और निवेश दोनों के हिसाब से बेहतर है। एनसीआर के कई क्षेत्रों ने बेहद कम अवधि में भी रियल्टी सेक्टर के इन्वेस्टर्स को अ’छे रिटर्न दिए हैं। यह स्थान प्रगति के पथ पर अग्रसर है। निर्माण की दुनिया में नित नई इबारत लिखने वाला यह स्थान बहुत कम समय में रियल एस्टेट के लिए नज़ीर बन कर उभरा है। देश के नामी-गिरामी डेवलपर्र्स यहां पर डेवलपमेंट कर रहे हैं। आइए नज़र डालते हैं यहां के प्रमुख स्थानों पर।
गुडग़ांव-यह स्थान रियल एस्टेट के हब के रूप में उभरा है। यहां पर कई ऑप्शंस उभरे हैं। यहां हाई एंड यूजर्स के लिए तो ऑप्शन की कमी न पहले कमी थी, न ही अब है। गुडग़ांव एक्सटेंंशन या न्यू गुडग़ांव जैसे इलाकों में लोअर मिडिल और मिडिल क्लास के हिसाब के भी काफी कुछ है। गुडग़ांव एक्सटेंशन या फिर न्यू गुडग़ांव स्थित प्रोजेक्टों में मिलने वाली सुविधाओं की बात करें तो, इनमें आपके लाइफ स्टाइल से सूट करतीं तमाम चीजें मुहैया कराई जा रही हैं। थीम्ड प्रोजेक्ट के रूप में आपके पास गोल्फ कोर्स का ऑप्शन है तो बेहतर और लग्जरीयस होम के रूप में विला और इंडिपेंडेंट फ्लोर आदि का। खरीददारों के एंगल से एक अच्छी  बात यह है कि यहां पर अन्य जगह की तरह प्रोजेक्ट्स को लेकर कोई विवाद भी नहीं है। ज्यादातर  प्रोजेक्ट  फ्रीहोल्ड ज़मीन पर हैं।
गुडग़ांव
गुडग़ांव में लग्जरी प्रोजेक्ट की भी भरमार है। गुडग़ांव में ज्यादातर  प्रोजेक्ट्स कम से कम & बीएचके के ही दिखते हैं , लेकिन जो प्रोजेक्ट नए सेक्टरों में बन रहे हैं , या फिर जिनमें ज्यादा  फ्लोर बनाए जा रहे हैं , उनमें फिर भी रेट कम है। एनएच -8 के निकट स्थित इस प्रोजेक्ट में 2, & और 4 बीएचके के ऑप्शन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। धारुहेड़ा की ओर बढ़ जाएं तो अरावली हाइट्स हर पॉकेट को सूट करने वाला विकल्प है।
ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन-यह स्थान रहने और निवेश के लिहाज से बेहतर इलाका है। इसका क्षेत्रफल चंडीगढ़ से भी तीन गुणा होगा। इलाके की विशालता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि चंडीगढ़ 114 वर्ग किमी क्षेत्र पर बसा हुआ है। ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन इलाके में ग्रेटर नोएडा, हापुड़, बुलंदशहर और सिकंदराबाद के 178 गांवों के हिस्से शामिल होंगे।  2021 तक इस इलाके में 12 लाख लोगों के रहने का अनुमान है। 20 हजार हेक्टेयर क्षेत्र का विकास इंटरनैशनल लेवल की चौड़ी सड़कों, अंडरग्राउंड केबलिंग और ड्रेनेज सिस्टम के साथ किया जा रहा है। यहां रहने वालों को ओपन स्पेस, सजे-संवरे लॉन और ड्राइविंग के लिए काफी चौड़ी सड़कें मिलेंगी। बिजली और पानी की बात करें, तो इन चीजों की भी चौबीसों घंटे आपूर्ति करने की प्लानिंग है।
एनसीआर की सबसे बड़ी सबसिटी ग्रेटर नोएडा के तहत ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन का भी विकास किया जा रहा है। ग्रेटर नोएडा के सेक्टर 1, 2, &, 4 आदि इसके तहत शामिल किए गए हैं। करीब 58,000 हेक्टेयर में बसाई जा रही इस सब-सिटी में आने वाले समय में काफी संभावनाएं बताई जा रही हैं। यह इलाका डीएनडी
फ्लाईओवर और सिक्स-लेन ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस – वे के जरिये दिल्ली के बस आधे घंटे की ड्राइव पर है।
बेहतर है नोएडा – एक्सपर्ट की राय में एनसीआर में नोएडा इलाके को बेहतर चाइस कहा जा सकता है। यह सब -सिटी भी लाइफ स्टाइल फैक्टर के हिसाब से बढ़ रही है। अथॉरिटी ने इसके लिए काफी इंफ्रास्ट्रक्चर मुहैया कराने की तैयारी की है। इसमें ट्रैफिक मैनेजमेंट से लेकर फ्लाईओवर, मेट्रो लाइन, पार्क, सड़कों को चौड़ा करना, पुल निर्माण आदि शामिल है। नोएडा अथॉरिटी ने एक्सप्रेसवे को चौड़ा करने, पुल और फ्लाईओवर आदि का काम शुरू भी कर दिया है। कई भीतरी और बाहरी सड़के चौड़ी की जा रही हैं।
यही वजह है कि मिडिल क्लास की रोज बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए कई डेवलपर्स उभरते हुए सेक्टरों में अपने प्रोजक्ट ले कर आ रहे हैं। ईस्टर्न पेरिफेरियल एक्सप्रेस – वे और यमुना एक्सप्रेस -वे आदि इस इलाके से लगते हुए एक्सप्रेस – वे हैं। नोएडा और ग्रेटर नोएडा इलाके में इंफ्रास्ट्रक्चर की उपलब्धता ही इलाके को एनसीआर के अन्य इलाकों से अलग बनाती है।
राज नगर एक्सटेंशन 
राजनगर एक्सटेंशन मध्य वर्ग की पहली पसंद बनकर उभर रहा है, इसकी एक बड़ी यह भी है कि यहां कीमतें लोगों की पहुंच में हैं। कनेक्टिविटी ने भी इस इलाके की डिमांड बढ़ा दी है। बेहतर इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए प्राइवेट बिल्डरों ने अथॉरिटी से हाथ मिला लिए हैं और दोनों मिलकर अ’छे विकास को अंजाम दे पा रहे हैं।
 यह स्थान एनसीआर में बजट होम के लिए प्रसिद्ध है। यहां का वातावरण और जलवायु दोनों ही काफी अ’छा है। यहां ओपन स्पेस बहुत बड़ा है। साथ ही हिंडन नदी का बाढ़ प्रभावित इलाका भी है, जहां कभी कन्सट्रक्शन नहीं होना है। इंडियन एयर फोर्स द्वारा जंगल डेवलप किया गया है। दूर-दूर तक कोई इंडस्ट्री नहीं है। यहां के पानी का टीडीएस बहुत कम है। कन्सट्रक्शन के लिए जो पानी की टेस्टिंग की गई थी, इसकी रिपोर्ट ड्रिंगकिंग वाटर की है। रेट के अनुसार यह स्थान एनसीआर में सबसे अ’छा है। यहां पर हर सेग्मेंट का फ्लैट है। यहां पर &1 डेवलपर्स तो एशोसिएशन के सदस्य हैं।  इतने ही बिल्डर्स और होंगे, जिन्होंने लैंड यहां पर खरीद ली है। यहां का यूएसपी कनेक्टिविटी है। इस स्थान का दिल्ली-मेरठ और हापुड की ओर आते हैं तो बेहतर एप्रोच है। मेट्रो भी अर्थला तक आ रही है, जो मुश्किल से &-4 किमी. की दूरी पर होगी। यह अभी प्रस्तावित है। यह स्थान रहने के लिहाज से एक बेहतर विकल्प के रूप में उभरा है। राजनगर एक्सटेंशन की सबसे बड़ी बात यह है कि यह फ्री होल्ड है। यह लीज होल्ड नहीं है। जैसा कि अथॉरिटी को कुछ स्थानों के ऊपर लीज होल्ड को लेकर समस्याएं आई थी, यहां ऐसी कोई बात नहीं है। यहां पर बिल्डर्स सीधे किसान से ज़मीन लेता है और जीडीए (गाजि़याबाद विकास प्राधिकरण)के नॉर्म को फॉलो करते हुए मैप सेक्शन करवाता है। इसका लोकेशन इसे खास बनाता है। राज नगर एक्सटेंशन नए मेरठ बाईपास पर स्थित है। बाईपास के निकट होने के कारण इसका सबसे बड़ा फायदा यह भी है कि दिल्ली और दूसरे शहरों में आने जाने के लिए लोगों को मेरठ और गाजियाबाद के भीड़ वाले इलाके से नहीं गुजरना पड़ेगा। एक नजर डाली जाए तो दिल्ली और नोएडा पहुंचने में यहां से 15 मिनट, ग्रेटर नोएडा- &5 मिनट, वसुंधरा- 10 मिनट, इंदिरापुरम- 10 मिनट, वैशाली- 10 मिनट, मेरठ और हापुड़ 40 मिनटों में पहुंचा जा सकता है।  अफोर्डेबल होने के कारण  राजनगर एक्सटेंशन ऐसा डेस्टिनेशन बनता जा रहा है, जहां प्रॉजेक्ट्स मध्य वर्ग की जेब की पहुंच में हैं। यहां 1 बीएचके से & बीएचके तक मिल जाएंगे। इनकी रेंज 12 लाख से लेकर 40 लाख रुपये तक है। यहां जॉगिंग ट्रैक से लेकर एंटरटेनमेंट और शॉपिंग से संबंधी सभी सुविधाएं मुहैया होंगी। यूपी सरकार ने यहां गल्र्स हॉस्टल, वकेशनल कॉलेज, ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट बनाने की घोषणा भी की है। एक बड़ा स्कूल पहले ही शुरू हो चुका है। कई और डिवेलपर्स
मिडल क्लास के लिए प्रॉजेक्ट लेकर यहां आ सकते हैं।
क्रॉसिंग रिपब्लिक- दिल्ली के आसपास घर चाहने वालों के लिए क्रॉसिंग्स रिपब्लिक एक बेहतर ऑप्शन है। यह इलाका न सिर्फ गाजि़याबाद के निकट है बल्कि नोएडा , ग्रेटर नोएडा और दिल्ली से भी अ’छी तरह जुड़ा है। यह लोकेशन एक तरह से लाइफ स्टाइल डेस्टिनेशन बन गया है। डिवेलपर्स यहां सही कीमतों पर तमाम सुविधाएं उपलब्ध कराने के दावे करते हैं।  यहां अपार्टमेंट्स के साथ – साथ विला के आप्शंस भी हैं। इसका लोकेशन भी इसे खास बनाता है। इलाके के स्थिति की बात करें तो इसकी दूरी दिल्ली के रेलवे स्टेशनों या एयरपोर्ट वगैरह से उतनी ही है जितनी बाहरी या पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों की है। यह नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से करीब 25-26 किमी , इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से &5 किमी और आनंद विहार बस अड्डे से 19-20 किमी है। इलाके के एन -24 के निकट स्थित होने के कारण कम्युनिकेशन की समस्या कम है।
मॉडर्न लाइफ स्टाइल के लिहाज से देखें तो यहां सभी प्रकार की सुविधाएं हैं। हॉस्पिटल , स्कूल , पुलिस स्टेशन , होटल और कई मॉल फिलहाल बन रहे हैं। रेजिडेंशल कॉम्पलेक्स में डिवेलपर जिम , क्लब स्वीमिंग पूल और तरह तरह के खेल की सुविधाएं मुहैया करा रहे हैं। यहां के मॉल्स भले अभी बन रहे हैं , लेकिन वैशाली और इंदिरापुरम जैसे इलाकों के पास स्थित होने के कारण शॉपिंग की कोई समस्या नहीं है। निवासी वहां के मॉल्स का मजा ले रहे हैं। इन इलाकों में देश के नामी-गिरामी बिल्डर्स डेवलप का काम कर रहे हैं।
ग्रेटर फरीदाबाद-ग्रेटर फरीदाबाद एनसीआर के शहरों को तेज़ी से पछाडऩे के लिए तैयार है। नए कंस्ट्रक्शन, साथ-सुथरे रोड और व्यवस्थित पार्किंग व पार्कों की प्लानिंग को देखकर इनवेस्टरों ने इधर का रुख किया है। अ’छी बात यह है कि एनसीआर के अन्य शहरों के मुकाबले फरीदाबाद में पुरानी मल्टीस्टोरी बिल्डिंगों की संख्या कम है। दिल्ली-एनसीआर में विकास की लहर को फरीदाबाद ने तेजी दी है। यह शहर विकास की नई इबारत लिखने को तैयार है। नहरपार के नाम से जाने जाना वाला ग्रेटर फरीदाबाद इलाके के विकास की प्लानिंग ग्रेटर नोएडा से कम नहीं है। चौतरफा विकास का स्वागत कर रहा यह इलाका अब दिल्ली एनसीआर व अन्य इलाकों के लोगों का बांहें फैला कर स्वागत कर रहा है। फरीदाबाद में देरी से शुरू हुए विकास का सबसे बड़ा लाभ आज मिल रहा है। ग्रेटर फरीदाबाद में तेजी से डिवेलप हो रहे प्रोजेक्ट्स पूरी वैधता से और लाइसेंस लेकर बनाई जा रही हैं। छोटे-बड़े बिल्डरों के फ्लैट, डुप्लेक्स, कोठियां पूरी तरह से भूकंपरोधी तकनीक पर बनाई जा रही हैं। नए कंस्ट्रक्शन, साथ सुथरे रोड और व्यवस्थित पार्किंग व पार्कों की प्लानिंग को देखकर इनवेस्टरों ने इधर का रुख किया है।
 ग्रेटर नोएडा-यह गाजियाबाद के करीब इंडिग्रेटेड टाउनशिप और बिल्डर प्लॉट्स आदि नोएडा और गाजि़याबाद से मात्र दो किलोमीटर की दूरी पर हैं। नये सेक्टरों के लिए जमीन नोएडा के सेक्टर-71 और 76 के निकट स्थित कई गांवो से एक्वायर की गई है। नॉलेज पार्क -5 और इकोटेक एक्सटेंशन को इंस्टीट्यूशनल और इंडस्ट्रीयल यूनिट्स के लिए विकसित किया जा रहा है। जीएनआईडीए की कोशिश इस सबसिटी को वल्र्ड क्लास टाउनशिप के रूप में विकसित करने की है। इसी के तहत यहां 75 एकड़ जमीन पर इंस्टीट्यूशनल हब और 50 एकड़ जमीन पर एजुकेशनल हब बनाने की दिशा में पहल हो चुका है। हाईप्रोफाइल गौतम बुद्ध यूनिवर्सिटी यहां शुरू हो चुकी है। यहां से होते हुए 1,48& किलोमीटर लंबे दिल्ली- मुंबई कॉरिडोर की भी प्लानिंग है। इससे इलाके में एक्सपोर्ट – इंपोर्ट जैसे कामों को भी काफी बढ़ावा मिलेगा। अथॉरिटी एनएच -24 और एनएच -91 के बीच स्थित ग्रेटर नोएडा फेज -2 को एक इंटीग्रेटेड टाउनशिप की तरह डिवेलप कर रही है। इसका मास्टर प्लान भी बनाया जा चुका है और इसके हिसाब से काम बढ़ रहा है। यहां जनसंख्या बढ़ोतरी के हिसाब से काम हो रहा है। यहां आने वाले समय में इंडस्ट्रीयल डिवेलपमेंट भी देखने को मिलेगा। यही वजह है कि सिटी एरिया को बढ़ाने का प्रस्ताव भी पास कर दिया गया है।
नोएडा एक्सप्रेस-वे 
एक्सप्रेस – वे पर सेक्टर -1&7 और 14& तेजी से उभर रहे हैं। इन सेक्टरों में तेजी से हो रहे डिवेलपमेंट की वजह है यहां मल्टीनेशनल कंपनियों की स्थापना और इसके साथ कई महत्वपूर्ण रेजिडेंशल प्रोजेक्ट्स का लॉन्च होना। इन सेक्टरों का फ्यूचर ब्राइट बताया जा रहा है। इसकी वजह लोकेशन है। यहां से दिल्ली और नोएडा की कनेक्टिविटी अ’छी है। इनके इर्द – गिर्द स्कूल , कमर्शल हब और अस्पताल आदि का भी निर्माण हो रहा है।
एक्सप्रेस-वे 
नोएडा-ग्रेटर नोएडा को जोडऩे वाले एक्सप्रेस- वे के किनारे और इसके निकटवर्ती सेक्टर्स में प्राइवेट बिल्डर्स के कई प्रोजेक्ट्स देखने को मिलते हैं। इसके अलावा कई नए प्रोजेक्ट्स आने वाले हैं। इंडस्ट्रियल महत्व के दो शहरों के अलावा इस एक्सप्रेस-वे के जरिये अगले साल, उत्तर प्रदेश के धार्मिक और पर्यटन के लिहाज से बेहद खास माने जाने वाले मथुरा और आगरा को भी जोड़ लिया जाएगा। ऐसे में इस मार्ग को निवेश की संभावनाओं के तौर पर देखा जा सकता है। यही नहीं साल 2005-06 में जब से इस एक्सप्रेस-वे का बड़ा हिस्सा तैयार हो गया था, उसके बाद से ही इसके जरिये जुडऩे वाले नोएडा के सेक्टर्स की डिमांड बढऩी भी शुरू हो गई थी। बीते दशक के मध्य से लेकर यह एक्सप्रेस-वे आज भी निवेश के लिहाज से हॉट लोकेशन में गिना जाता है।
एक्सपर्ट की राय में एनसीआर को जोडऩे के लिए एफएनजी और केएमपी को भी एक्सपे्रस-वे के रूप-रंग में तैयार किया जा रहा है। केएमपी का काफी काम पूरा हो गया है। ऐसे में इस एक्सपे्रस-वे के निकटवर्ती क्षेत्रों में निवेश लाभ का सौदा बन सकता है। कुंडली, पलवल, धारुहेड़ा और बावल जैसे इलाकों को इस एक्सपे्रस- वे से लाभ मिलेगा। ऐसे में इन शहरों में निवेश के विकल्प भी तलाशे जा सकते हैं।
बहादुरगढ़ 
मेट्रो के तीसरे फेज के निर्माण का कार्य आरंभ हो चुका है। नांगलोई से मुंडका होते हुए, इसी चरण के अंतर्गत मेट्रो ट्रेन की सुविधाओं को बहादुरगढ़ तक बहाल किया जाना है। मेट्रो के ट्रैक जहां भी बिछे हैं, वहां की संपत्तियों के दामों में तेजी देखने को मिली है। ऐसे में बहादुरगढ़ भी निवेश के लिए बेहतरीन विकल्प हो सकता है। संपत्ति मामलों के जानकार प्रदीप मिश्र के मुताबिक इस शहर में प्लॉट में निवेश करने के लिए 6 से 8 हजार रुपये मीटर का विकल्प रखना होगा। इसके अलावा शॉट टर्म इन्वेस्टर्स के लिहाज से भी बहादुरगढ़ एक परफेक्ट डेस्टिनेशन साबित हो सकता है।
बागपत 
इस शहर को भी उत्तर प्रदेश के तेजी से उभरते शहरों के रूप में देखा जा रहा है। दिल्ली सहारनपुर राजमार्ग के जरिये जुडऩे वाले शहर में भी लांग टर्म इन्वेस्टमेंट की संभावनाएं तलाशी जा सकती है। इस शहर का निवेश फायदे का सौदा इसलिए भी हो सकता है क्योंकि दिल्ली सहारनपुर राजमार्ग को आठ लेन तक चौड़ा करने की योजना पर जल्दी ही काम आरंभ कर दिया जाएगा। इसके अलावा कनेक्टिविटी को मजबूत करने के लिहाज से किंग्Óवे कैंप के निकट यमुना पर पुल बनाने की योजना भी है। यदि ऐसा हो जाता है तो उत्तरी दिल्लीसे इस तरफ पहुंचने में 10 से 15 मिनट का वक्त लगेगा।
दिल्ली सहारनपुर राजमार्ग पर ट्रॉनिका सिटी से चंद किलोमीटर आगे चलते ही निजी क्षेत्र के बिल्डर्स की कई परियोजनाएं यहां देखने को मिलती हैं। टाटा हाउसिंग जमीन लेने के बाद जहां इस तरफ अफोर्डेबल हाउसिंग के प्रोजेक्ट लाने पर विचार कर रहा है तो वहीं महावीर हनुमान ग्रुप ने यहां प्लॉटेड डेवलपमेंट की है। इस प्रोजेक्ट में लोकेशन के मुताबिक 6 से 7 हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर के रेट पर प्रॉपर्टी ली जा सकती है।
 लेकिन निवेश से पहले उस क्षेत्र की संभावनाओं पर एक नजर जरूर डाल लें। साथ ही जिस प्रोजेक्ट में आप निवेश कर रहे हैं उसे कौन बना रहा है, इसकी परख भी जरूरी है? रियल्टी सेक्टर में भी ब्रांड वैल्यू का महत्व बेहद अधिक है। जहां भी निवेश करें, देखें कि उस संपत्ति के साथ किसी तरह का कोई विवाद न जुड़ा हो।

LEAVE A REPLY