इंग्लैंड के दक्षिण-पश्चिम भाग में बसा सैन्ड होटल

0
56
आपने कई बार बालू पर इबारत लिखा होगा लेकिन यह इबारत बहुत जल्दी की खत्म हो जाती है। इसलिये शायरों ने कहा है कि प्रेम की इबारत पत्थरों पर लिखा जाय तो इजहारे मोहब्बत काफी दिनों तक निशानी के तौर पर रहती है लेकिन बालू पर लिखा गया इजहारे मोहब्बत शब्द के साथ भले ही आकर्षक बन जाता हो लेकिन रहती है अस्थायी ही। इसलिये व्यंग्य के लहजे में कहा जाता है कि इनका प्यार बालू पर लिखे इबारत की तरह है। लेकिन जनाब यह बालू भी वक्त की रफ्तार में इमारतों के इबारत लिख रहा है। चौंक गये सुनकर ,आपके हैरानगी को देते हैं विराम। यह संभव हो रहा है इंग्लैंड में। इंग्लैंड के दक्षिण-पश्चिम भाग में बसा डोरसेट काउंटी (Dorset County) में विश्व का पहला सैन्ड होटल यानि बालू होटल का निर्माण किया गया है।
यह यहां के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल वेमाउथ बीच (Weymouth beach) के पास स्थित है। इस अनोखे होटल को बनाने में करीब 1000 टन बालू का इस्तेमाल किया गया है। इसे बनाने में 4 शिल्पकार ने काफी परिश्रम किया है। उन्होंने लगातार 14 घंटे कार्य करके एक सप्ताह में इसे अनोखा और बेजोड़ स्वरूप प्रदान किया। होटल में कुर्सी, टेबल, बेड सभी बालू से बने हुये हैं। हालांकि इस अनोखे होटल में छत नहीं है और पानी से बचाव के लिये यहां पर टॉयलेट की सुविधा भी नहीं है। यहां पर प्रत्येक साल लाखों की संख्या में पर्यटक आते हैं। मार्क एंडरसन सैन्ड होटल के रचनाकार हैं। उनका कहना है कि यह एक प्रकार का बड़ी सैंड कैसल (बालू के दुर्ग के समान) ही है, जिसे काफी परिश्रम और जेसीबी तकनीक के सहारे जीवंत रूप दिया गया।
प्रकृति की इस निराली दुनिया में इस होटल का निर्माण अपने आप में अनोखा  होने के साथ-साथ यहां आने वाले आगुन्तकों को अपनी ओर खिंचती है। रात के समय इस होटल में समय बिताने के समय आप खुली आकाश के नीचे चांद और तारों से भी बात कर सकते है। कल्पनाओं की उड़ान भरने के लिये यह माहौल काफी रोचक और प्रेरणादायक हो सकता है। इस अनोखे होटल में पर्यटकों  को इन सभी बातों का आनंद उठाने के लिये करीब 21 डॉलर खर्च करने होते हैं। होटल को एक स्थानीय ट्रेवल वेबसाइट कंपनी चला रही है।

LEAVE A REPLY