वर्ल्ड आइलैंड

0
155
यह आइलैंड का समूह संयुक्त अरब अमीरात के औद्योगिक राजधानी दुबई के खाड़ी में बनाया जा रहा है। इस प्रसिद्ध प्रोजेक्ट का कॉन्सेप्ट वर्ल्ड  मैप है। यहां करीब 300 द्वीपसमूह बनाए जा रहे हैं। सच में देखा जाय तो प्रकृति की गोद में बसा यह स्थान अपनी भव्यता और सुन्दरता की अलग ही दुनिया बसा ली है। यह पूरा आइलैंड 9.5 किमी. के क्षेत्र में फैला हुआ है। इस प्रोजेक्ट के तहत मैरिन विलेज़ को भी विकसित किया जा रहा है। यहां रहने वाले लोगों और आगुन्तकों के लिए उचित भोजन की व्यवस्था,शॉपिंग के लिये रिटेल शॉप,150 रूम की मॉडर्न और शानदार होटल, स्पा जैसे कई आधुनिक सुख-सुविधाएं उपलब्ध होंगी।
वर्ल्ड मैप पर भले ही दुबई छोटा हो लेकिन इसकी रंगीन दुनिया किसी को प्रभावित करने के लिये काफी है। खासकर, यहां का निर्माण अनोखी दुनिया से रूबरू करवाता है। इसी कारण दुबई को पूरी दुनिया में अनोखा स्थान माना जाता है। धन कुबेरों की यह नगरी अपने निर्माण कार्य को लेकर सुर्खियों में बनी रहती है।
यहां के रियल एस्टेट की दिग्गज कंपनी नखील वर्ल्ड  मैप को आधार मानकर एक ऐसा आइलैंड का निर्माण कर रहा है, जो अपने आप में अनोखा होने के साथ, कौतुहल का विषय बना हुआ है। इसे दुबई के खाड़ी में बनाया जा रहा है। यह दुनिया के देशों का प्रतिनिधित्व करते हुये, 300 द्वीप समूहों के रूप में है, जो 9.5 किमी. के विस्तृत क्षेत्र में फैला हुआ है। यह वर्ल्ड आइलैंड्स वास्तव में मानव की कल्पनाओं को धरातल पर उतारने जैसा है। इस कल्पना को मानवीय सोच और वैज्ञानिक तर्क ने एक अनोखे अंदाज में ढाला है। समुद्र की अथाह गहराइयों में दुनिया बसाना इतना आसान नहीं होता। एक्सट्रीम इंजीनियरिंग के प्रयोग से समुद्र की इन अतल गहराइयों में द्वीप समूह बनाने के लिए समुद्री बालु का इस्तेमाल किया जाता है। दुबई के शासक शेख मोहम्द बिन राशिद अल मकतुम और नखील प्रॉपर्टीज ने इसे जीवंत रूप दिया है। इस द्वीप समूह का विस्तार करीब चौदह हज़ार स्क्वेयर मीटर से लेकर बयालीस हज़ार स्क्वेयर मीटर तक है। यहां पर बन रहे 300 द्वीप समूहों के बीच औसतन 100 मीटर की दूरी रखी गयी है। वल्र्ड आइलैंड नौ किमी. लंबा और 6 किमी. चौड़ा है, जो अंडाकार बांध से घिरा हुआ है।
वर्ष 2005 में अनुमान लगाया गया था कि इस वल्र्ड आइलैंड्स को बनाने में करीब 14 बिलियन डॉलर की लागत आयेगी। इस प्रसिद्ध प्रोजेक्ट के रहस्यों का उजागर सर्व प्रथम मई, 2003 में शेख मोहम्मद द्वारा किया गया और उसके ठीक चार महीने बाद समुद्री बालू के सहारे कार्र्य को धरातल पर लाया गया। जनवरी, 2008 तक करीब 60 प्रतिशत आइलैंड्स को विश्व के हस्तियों के बीच बेचा जा चुका था। इसकी लोकप्रियता का अनुमान आप इससे ही लगा सकते हैं कि वर्ष 2007 के शुरूआती चार महीने में करीब 20 आइलैंड्स बिक चुके थे। 10 जनवरी, 2008 को इस प्रोजेक्ट के अंतिम परिणति तक डेवलपर्स पहुंच चुके थे। इस आइलैंड्स को कॉमर्शियल और रेसीडेंशियल दोनों प्रकार से बनाये गये हैं । यहां की सुरक्षा ऐसी बनायी जा रही है कि परिंदा भी पर न मार सके।
इस प्रोजेक्ट से जुड़े कंपनियां यहां रहने वाले लोगों को विश्व स्तर की सुरक्षा मुहैया कराना चाहती हैं, ताकि प्रकृति के इस मनोरम स्थल का दुगुना मजा लिया जा सके। इस प्रोजेक्ट के मैनेजिंग डायरेक्टर हमज़ा मुस्तफा इस वल्र्ड आइलैंड की सुरक्षा को लेकर काफी संजीदे हैं। यहां पर सुरक्षा में नियुक्त सुरक्षाकर्मी पूरी तरह से अत्याधुनिक शस्त्रों से लैस होंगे।अल्ट्रा मोदेर्ण सिक्युरिटी सिस्टम भी सुरक्षा व्यवस्था को मज़बूत करने में महत्वपूर्ण भागीदारी निभाएगी। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर प्रोजेक्ट से जुड़ी कंपनियां एक ऐसा मिसाल कायम करना चाहती है, जो पूरे विश्व में उदाहरण बन सके। नखील द्वारा घोषणा किया गया है कि यहां पर बनने वाला पहला आइलैंड ‘कोरल आइलैंड’ में विश्व स्तर की सभी लग्जूरिअस सुविधाओं से लैस होगा। यह वर्ल्ड मैप के आधार के हिसाब से यह प्रसिद्ध आइलैंड नार्थ कॉस्ट ऑफ कनाडा के स्थान बन रहा है। ‘कोरल आइलैंड’ वर्ल्ड  आइलैंड के नार्थ-अमेरिका के क्षेत्र से बने 20 आइलैंड्स से जुड़े हुये रहेंगे। यह 73 हेक्टेयर में फैला हुआ है. आइलैंड्स मैरीना विलेज़, बेहतरीन स्पा होटल और रेसीडेंशियल जैसी महत्वपूर्ण सुविधाओं से भरपूर होगा। ‘कोरल आइलैंड’ में मैरिन विलेज़ को भी विकसित किया जा रहा है, जहां सभी आधुनिक सुख-सुविधाएं उपलब्ध होंगी। जिसमें मुख्य हैं- उचित भोजन की व्यवस्था, शॉपिंग के लिये रिटेल शॉप,150 रूम की मॉडर्न और शानदार होटल, स्पा। यहां के होटल दुबई के बड़े होटलों के नाम में शुमार होने जा रहा है । यहां इन हाउस स्वीमिंग पूल भी होगा। यह स्थान सिटी के भीड़-भाड़ से दूर आपको एक सुकून और ताजगी भरी अहसास भी दिलाएगा। इस कोरल आइलैंड को 2010 तक तैयार करने की संभावना जतायी जा रही है।
वर्ल्ड आइलैंड को बनाने में 320 मिलियन क्यूबिक मीटर बालू की ज़रूरत होगी। इस बहुप्रतीक्षत आइलैंड के निर्माण के होने से विश्व के मानचित्र में दुबई विश्व भर के सैलानियों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान बन जाएगा। दुनिया भर की हस्तियों के रहने से यह आइलैंड की लोकप्रियता का ग्राफ कितना ऊंचा हो जाएगा, यह सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है। यहां के करीब 50 प्रतिशत प्रसिद्ध आइलैंड को विश्व भर की हस्तियों ने खरीद ली है। इस आइलैंड पर प्राइवेट रिजोर्ट,रेस्टोरेंट,याचेट क्लब, स्कूबा डाइविंग,मैरिन्स, बिच क्लब। आइलैंड के निर्माण के पूर्ण होने के समय यहां आधुनिक सुख-सुविधाओं से लैस 40 लग्ज़रियस रिजोर्ट होंगे, जो यहां के माहौल को और भी रंगीन कर देंगे। यहां विश्व भर की प्रसिद्ध ब्रांडेड कंपनियां लोगों की सेवा देंगी। संयुक्त अरब अमीरात की प्रसिद्ध रियल एस्टेट कंपनी नखील प्रॉपर्टीज ने वर्ष 2006 में इस प्रोजेक्ट की विधिवत घोषणा दुबई वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में की थी। वर्तमान में करीब 90 प्रतिशत कार्य को पूरा कर लिया गया है। इस आइलैंड को अलग-अलग श्रेणी में बांटा गया है और प्रत्येक श्रेणी की दुनिया को भी अलग-अलग अंदाज़ में रखा गया है। इस आइलैंड की दुनिया, अनोखे अंदाज़ में होने के कारण रियल एस्टेट में चर्चा का विषय बन चुकी है। अनुमान है कि आने वाले समय में इसकी लोकप्रियता का ग्राफ काफी ऊंचा हो जाने के कारण, यह दुबई पर्यटकों का पसंदीदा स्थान बन सकता है। यहां के टूर एंड ट्रेवल कंपनियों के लिये वल्र्ड आइलैंड किसी वरदान से कम नहीं होगा। विश्वभर के लोगों के जमावाड़े से यहां विविध सभ्यता और संस्कृति की झलक देखने को लि सकती है। यहां पर अनेकता में एकता के रूप में कई देशों के लोग आकर अपनी अहमियत साबित करेंगे। कुछ निर्माण इतिहास के पन्नों में स्थान पाते हैं और वह अमर हो जाते हैं। ठीक उसी प्रकार इस आइलैंड का निर्माण भी इतिहास की दुनिया को एक नये अंदाज़ में परिभाषित करते हुये नज़र आएगा। यहां पर मिलने वाली सुविधाओं को देखकर कहा जा सकता है कि यहां की दुनिया बाकी दुनिया से काफी अलग होने के साथ-साथ मस्ती और उमंग की कहानी एक नये अंदाज़ में कहती हुयी नज़र आयेगी। दुनियाभर की हस्तियों की पसंदीदा जगह बन जाने के कारण हमेशा सुर्खियों में बना रहेगा। यदि आप आम लोगों से हटकर हैं और पैसों की दुनिया के बेताज बादशाह भी हैं तो यहां आपका स्वागत है। आपके स्वगत के लिये वर्ल्ड आइलैंड बांहे फैलाये हुये है।
यहां पर एक आइलैंड की कीमत 15 मिलियन डॉलर से लेकर 50 मिलियन डॉलर के बीच रखा गया है। एक प्रसिद्ध आइलैंड की कीमत करीब 250 मिलियन डॉलर आंकी गयी है।
इस आइलैंड को बनाने के पीछे अभिधारणा था कि पूरी दुनिया चार प्रमुख आवागमन केन्द्र पर टिकी हुयी है, जो जलमार्ग से जुड़े हुये हैं। सामान्य रूप से ज़मीन पर रियल एस्टेट, रिसोर्ट और कमर्शल के रूप में प्रयोग होते हैं। इसी सिद्धांतो को आधार मानकर इस प्रसिद्ध आइलैंड का निर्माण किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY