अमेरिकी सर्वोच्चता और प्रतिष्ठा का प्रतीक ‘व्हाइट हाउस’

0
145
white house
https://www.whitehouse.gov

मुकेश के झा

यह अमेरिका के राष्ट्रपति का निवास स्थान है। अमेरिकी सर्वोच्चता का प्रतीक ‘व्हाइट हाउस’ वास्तव में विश्व पर अमेरिकी राजनीति के प्रभाव को नियंत्रित करने का वह रिमोट कंट्रोल है, जिसका बटन विश्व के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति अमेरिकी राष्ट्रपति के हाथों में होता है। इसी कारण यह शक्ति के केन्द्र में होने के साथ विश्व राजनीति में महत्वपूर्ण स्थान भी रखता है। आधुनिकता और सौम्यता का पुट लिये व्हाइट हाउस स्थापत्य कला अनुपम उदाहरण भी है। व्हाइट हाउस दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति का निवास स्थान है। पूरे विश्व के शक्ति के केन्द्र में स्थित है। संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति का यह निवास स्थान अमेरिका के प्रेसीडेंसी के प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता है। इसे 1792 ई. से लेकर 1800 ई. के बीच बनाया गया था। इस निवास स्थान में 132 भव्य रूम हैं। यह अमेरिकी राष्ट्रपति जॉन एडम्स के समय से प्रत्येक अमेरिकी राष्ट्रपति का स्थायी निवास स्थान बना। व्हाइट हाउस के ईस्ट विंग मुख्य रूप से अमेरिका के राष्ट्रपति की पत्नी यानि फस्र्ट लेडी के कार्यालय है। इस ऐतिहासिक हाउस में राष्ट्रपति अपने फैमिली के साथ सैकेंड फ्लोर और थर्ड फ्लोर में रहते हैं। यह स्थान आरामदायक होने के साथ प्राइवेसी से लैस है। व्हाइट हाउस का वेस्ट विंग में राष्ट्रपति का कार्यालय भी है। यह 200 साल से अमेरिकी सत्ता और गौरव के प्रतीक के रूप में है।

इतिहास

इसका इतिहास और देश की राजधानी के इतिहास दिसम्बर, 1790 ई. से शुरू होता है। जब अमेरिका के प्रथम राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन द्वारा दिसम्बर, 1790 ई. में संघीय सरकार के गठन के साथ देश की राजधानी के रूप में इसे कांग्रेस अधिनियम के घोषणा के तहत एक नया रूप दिया था। इस घोषणा के तहत अमेरिकी सरकार यहां की प्रसिद्ध नदी पॉटोमैक (Potomac) के 10 माइ़ल तक सरकारी भवन बनाने के निये नगर योजनाकार Pierre L’Enfant को भार सौंपा। इस योजना के तहत भवन के निर्माण के लिये जो वर्तमान में 1600 एवेन्यु के नाम से जाना जाता है, इसे चुना गया। इस फेडरल सिटी में प्रेसीडेंट हाउस के डिज़ायन के लिये एक प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। इसे बनाने के लिये नौ नये प्रस्ताव आए थे, जिसमें आयरलैंड के प्रसिद्ध आर्किटैक्ट जेम्स होबन के हाथ बाजी लगी, क्योंकि प्रेसीडेंट हाउस के लिये उनके द्वारा बनाया गया डिज़ाइन सबसे सुन्दर और तर्कसंगत था। भवन का निर्माण कार्य अक्टूबर, 1792 ई. से शुरू किया गया लेकिन अमेरिका के प्रथम राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन व्हाइट हाउस के मूर्त रूप को देख न पाये। इसके पूर्ण निर्माण से पहले ही उनका देहावसान हो गया। इस प्रसिद्ध भवन सर्वप्रथम अमेरिकी राष्ट्रपति जॉन एडम्स और उनकी पत्नी Abigail Adams का निवास स्थान बना। उस समय से ही, इस भवन में जो भी अमेरिकी राष्ट्रपति रहने आए, अपनी व्यक्तिगत रूची के अनुसार कुछ न कुछ परिवर्तन करवाते रहे हैं । इस भवन का कुछ रोचक ऐतिहासिक पहलुओं पर नज़र डालें तो स्पष्टï है कि न तो यह अपने शुरूआती दौड़ में यह भवन ऐसा था और न ही इसे शुरू से व्हाइट हाउस कहा जाता था।जब इसका निर्माण किया गया, तब इसका नाम प्रेसीडेंटस पैलेस या प्रेसीडेंट मेंशन था। 1812 ई. से 1815 ई. तक ब्रिटेन और अमेरिका के बीच युद्ध हुआ। इस युद्ध के समय ब्रिटिश आर्र्मी ने 1814 ई. में वाशिंगटन डीसी में बहुत जगहों पर आग लगा दी थी। यह भवन इस आग की चपेट में आ गयी, जिसके कारण आग की लपटों से इसकी खूबसूरती जाती रही। इस भवन को फिर से आकर्षक बनाने के लिये व्हाइट रंग से रंग दिया गया, जिसके कारण यह पूरा भवन व्हाइट हाउस में बदल गया, जिसे 1901 ई. में अधिकारिक तौर पर व्हाइट हाउस की संज्ञा दे दी गयी। अमेरिकी राष्ट्रपति थिओडोर रूजवेल्ट के समय यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया था। इस भवन का महत्वपूर्ण भाग वेस्ट विंग में 1929 ई. में फिर से आग लगी, उस समय हर्बट हूपर प्रेसीडेंट थे। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रूमैन के समय व्हाइट हाउस के आंतरिक रूप -रेखा में कई महत्वपूर्र्ण परिवर्तन किए गये। इस दौरान राष्ट्रपति ट्रूमैन ब्लैयर हाउस में रहने लगे, जो पेनीसिलवेनिया एवेन्यू के दायें तरफ स्थित था। यहां के राष्ट्रपति अपनी व्यक्तिगत रूची के अनुसार खास मौके पर इस भवन के कुछ भागों का डिज़ायन और साज-सज्जा को बदलते रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति थॉमस जैफरसन ने सर्वप्रथम 1805 ई. में व्हाइट हाउस का विधिवत उद्घाटन किया था। उस समय इस प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थल पर थॉमस शपथ समारोह के समय कई लोगों ने भाग लिया। इन लोगों ने यहां के प्रसिद्ध ब्लू रूम में राष्ट्रपति को बधायी दी। राष्ट्रपति जैफरसन के समय इस शक्ति के केन्द्र को आम लोगों के लिये खोल दिया गया। सिर्फ युद्ध जैसी आपातकालीन स्थिति में आम लोगों के लिये इसके द्वार बन्द रहते हैं। राष्ट्रपति एंड्रयू जैकसन के कार्यकाल के समय 4 जुलाई, 1829 ई. में नव वर्ष के मौके पर करीब 20,000 लोगों के आने से यहां अफरा- तरफी का माहौल बन गया था। यहां पर इस समारोह के समय संतरे का जूस और व्हीस्की के रवानगी ने ऐसा माहौल पैदा किया कि राष्ट्रपति एंड्रयू जैक्सन को अपनी सुरक्षा को लेकर काफी जदोजेहद करनी पड़ी। राष्ट्रपति अब्राहन लिंकन के कार्यकाल के दौरान उद्घाटन के समय कार्यक्रमों में एकत्रित भीड़ बड़े आराम से कार्यक्रम का लुत्फ उठाते रहे लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति ग्रोवर क्लीवलैंड के समय इस असुरक्षित प्रथा को बंद कर दिया गया। इसके बाद से व्हाइट हाउस के सामने निर्माण से झंडोतोलन के समय सेनाओं के समक्ष कार्यक्रम आयोजित किये जाने लगे, यह परिपाटी वर्तमान में भी दिख रहा है। खास मौके पर जैसे न्यू ईयर का समारोह और स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में इसी प्रकार के कार्यक्रम वर्ष 1930 के शुरूआती समय तक रहे । व्हाइट हाउस की विशालता और भव्यता का अनुमान आप इससे ही लगा सकते हैं कि यहां 132 रूम, 35 बाथरूम्स और 6 मल्टीलेवल स्टोरी रेसीडेंशीयल बिल्डिंग हैं। इसमें 412 दरवाजे, 147 खिड़कियां, 28 फायरप्लैस, 8 स्टीयरकेस और तीन एल्वेटरर्र्स हैं। यहां की किचिन मेजबानी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यहां के रसोइये 140 विशिष्टï अतिथियों के साथ 1,000 लोगों को रात्रीभोज बड़े आराम से पांच बार कराने में सक्षम हैं। व्हाइट हाउस की बाहरी पुताई पर 570 गैलन पेंट्स की ज़रूरत होती है। यह अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है, जिसमें मुख्य रूप से टेनिस कोर्ट, जोगिंग ट्रेक, स्वीमिंग पुल, मूवी थियेटर और बॉयलिंग लेन खास हैं।

द ओवल ऑफिस

द ओवल ऑफिस संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति का कार्यालय है। इस प्रसिद्ध ऑफिस का वास्तुकार नाथन सी. वेथ हैं। इस ऑफिस का डिज़ाइन अमेरिकी राष्ट्रपति विलियम हावर्ड टाफ्ट ने 1909 ई. में वास्तुकार नाथन सी. वेथ के द्वारा करवायी थी। इसका नाम एक विशिष्ट ओवल सेप में होने के ओवल ऑफिस पड़ा। यह व्हाइट हाउस के वेस्ट विंग के कार्यालयों के परिसर का एक हिस्सा है। 1929 ई. के भीषण अग्निकांड में ओवल ऑफिस बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था, जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति हबर्ट सी. हूवर के कार्यकाल के दौरान 1934 ई. में फिर से बनाया गया। अमेरिका के प्रसिद्ध राष्ट्रपति थिओडोर रूजवेल्ट के समय वेस्ट विंग को बड़ा करके उसके साथ इस नये ऑफिस को जोड़ दिया गया। इस ऑफिस का डिज़ाइन एरीक गुगलेर ने तैयार की थी . पूरे विश्व और अमेरिकी लोगों के मन में यह शक्ति और प्रतिष्ठा के प्रतीक रूप में यह ऑफिस का वास्तु यूरोप में 17 वीं और 18 वीं शताब्दियों में प्रचलित अत्यलंकृत कला का नमूना, नियोक्लासिकल और जॉर्जिन शैली पर आधारित है। प्रेसीडेंट डेस्क के पीछे दक्षिण मुंह की ओर तीन बड़ी-बड़ी खिड़कियों के साथ वेस्ट विंग के विभिन्न भागों में चार दरवाजे इसकी शोभा बढ़ा रहे हैं। इस ऑफिस की छत के किनारे विस्तृत सजावट है, जो ऑफिस को एक मन- मोहक अंदाज़ देता है। यह सजावट राष्ट्रपति के सुविधा के अनुसार है। शक्ति के प्रतीक इस ऑफिस में प्रेसीडेंट अपने रूची के अनुसार फर्नीचर,रंग-रोगन, डिज़ाइन और फ्लोर पर लगे कारपेट को अपने अंदाज़ में ढलवाते रहे हैं। यह स्थान प्रेसीडेंट का प्राथमिक कार्यस्थल है। काम को सुचारू रूप से संचालित करने के लिये इस ऑफिस में वेस्ट विंग के अन्य कार्यालय के स्टॉफ को आसानी से एंट्री करने की सुविधा प्रदान की गयी है। सामान्यतौर पर अमेरिकी प्रेसीडेंट यहां से राष्ट्रपति को टेली क्रांफसिंग संबोधन करने और विदेशी प्रतिनिधियों से मिलते हैं।

द वाइस प्रेसीडेंट रेसीडेंन्ट्स

उपराष्ट्रपति का निवास स्थान व्हाइट हाउस के पश्चिमोत्तर स्थित संयुक्त राज्य अमेरिका नौसेना वेधशाला (UUSNO) के ग्राउंड में 1893 ई. में बनाया गया था। वस्तुत: यह नेवी सुपरिनटेंडेंट के लिये वर्ष 1923 तक एक प्यारा घर था लेकिन बाद में अमेरिकी उपराष्ट्रपतियों के लिये पसंदीदा स्थान बन गया। ऐतिहासिक रूप से यहां पर अमेरिकी उपराष्ट्रपति और उनके परिवार के लिये घर का निर्माण बाद में क्या गया। अमेरिकी कांग्रेस ने वर्ष 1974 में एक घोषणा द्वारा यहां पर स्थायी तौर पर उपराष्ट्रपति का निवास स्थान इस नौसैनिक वेधशाला में बनाया। इससे पूर्व उपराष्ट्रपति नौसैनिक वेधशाला के सर्कल वन में ही रहते आये थे। अमेरिकी उपराष्ट्रपति Gerald Ford अपने प्रेसीडेंसी के समय इसे घर के रूप में स्वीकार तो कर चुके थे लेकिन इस स्थान का अमेरिकी उपराष्ट्रपति नेल्सन रॉकीफेलर मनोरंजन स्थल के रूप में ही उपयोग किया था। पहली बार अमेरिकी राष्ट्रपति वाल्टर मोनडेले ने ही इसे अपने व्यक्तिगत घर बनाया था। अमेरिकी उपराष्ट्रपति सीनियर बुश, डैन क्वाले, अलगोर और डिक चैनी के परिवार यहां रहकर इस स्थान की शोभा बढ़ाते रहे हैं। वर्तमान में अमेरिकी उपराष्ट्रपति Joe Biden यहीं रहते हैं। उपराष्ट्रपति अनगिनित अतिथियों का स्वागत अपने इसी निवास स्थान पर करते हैं। इन अतिथियों में विदेश के प्रसिद्ध राजनेता, विदेशी प्रतिनिधि मुख्य होते हैं। अभी भी यहां से नौसैनिक वेधशाला को संचालित किया जाता है। यहां पर वैज्ञानिकों द्वारा सूर्य, चन्द्रमा, तारे, ग्रह और उपग्रहों की स्थिति का सूक्ष्म अन्वेषण कर समय का आकलन किया जाता है और वैज्ञानिकों द्वारा खगोलिय डाटा का सही प्रयोग नित नये अनुसंधान के लिये किया जाता है।

द वाइस प्रेसीडेंट सेरीमोनियल ऑफिस

यह प्रसिद्ध ऑफिस व्हाइट हाउस के वेस्ट विंग के साथ जुड़ा हुआ है। व्हाइट हाउस के वेस्ट विंग के अहाते में Eisenhower Executive Office Building में उपराष्ट्रपति अपने स्टॉफों के साथ महत्वपूर्ण बातों पर विचार-विर्मश करते हैं। यह प्रसिद्घ स्थान वेस्ट विंग के बगल से ही जुड़ा हुआ है। इस ऑफिस को वाइस प्रेसीडेंट्स सेरीमोनियल ऑफिस भी कहते हैं। यह कार्यालय नौसेना के सचिव के ऑफिस रूप में भी रहा है, जहां पर अमेरिकी नौसेना के कई महत्वपूर्ण कार्य संपादित किये जाते रहें हैं और यहां वार डिपार्टमेंट भी रहा है। वर्तमान में इस ऑफिस का प्रयोग उपराष्ट्रपति महत्वपूर्ण बैठकें और प्रेस इंटरव्यू के लिये करते हैं।

LEAVE A REPLY