कई खूबियों से भरपूर है बेंत फर्नीचर

0
242
Bamboo-Furniture-Decor
photo courtesy http://www.spokanebikes.net

बेंत फर्नीचर में कई ऐसी खूबियां है, जिसके कारण ऑफिस हो, चाहे घर या हो फिर रेस्तरां या हो दुकान इसका जादू हर जगह जमकर चल रहा है। वर्तमान में इसका ट्रेंड बाज़ार में खूब चल रहा है। यदि अगर आप घर के लुक को एंटीक या प्राकृतिक लुक देना चाहते हैं तो बेंत से बने फर्नीचरर्स एक बेहतर ऑप्सन साबित हो सकता है। तो देर किस बात कि आप भी इसकी दुनिया से जुड़कर अपने घर की सुन्दरता में चार चांद लगाएं।
खास बात होती है बेंत फर्नीचर में
वर्तमान में भले ही बाज़ार में मॉडर्न फर्नीचरर्स की भरमार है लेकिन जो बात बेंत से बने फर्नीचर में होती है, अन्य किसी में नहीं दिखता है। ऐसा भला हो भी क्यों नहीं, यह बेंत के बने फर्नीचर सजावटी वस्तुओं की दुनिया में अपनी राजसी ठाट-बाट का प्रतीक माने जाते हैं। जहां यह फर्नीचर किफायती और टिकाऊपन लिये होता है, वहीं उसका लुक भी काफी आकर्षक और आरामदायक होता है। बेंत से बने फर्नीचर सौंदर्य के साथ-साथ टिकाउ भी होता है। इसकी मज़बूती और लचकदार जैसी गुण पाये जाने के कारण यह फर्नीचर बनाने के लिए सबसे बेहतर विकल्प भी है। इसे लगभग हर प्रकार की फर्नीचर जैसे-टेबल, कुर्सी, सोफा, स्टूल, शू- रेक, बूकशेल्फ आदि में इस्तेमाल किया जा सकता है। ऐसे भी लचीलापन, मजबूती, हल्के वज़न और आसान परिवहन की वजह से फर्नीचर बनाने के लिए बेंत काफी लोकप्रिय है।

मॉर्डन और नेचुरल
इससे बने फर्नीचर बिल्कुल प्राकृतिक दिखता है। ये बेहद आधुनिक और देखने में काफी आकर्षक होते हैं। अब तो लकड़ी के बने फर्नीचरों की जगह अब इसे खूब प्रयोग किया जा रहा है। इससे बने सोफे भी घरों की सुन्दरता को काफी बढ़ा देता है। इन फर्नीचरों के अलावा इसके बने टेबल, झुलते कुर्सी, स्टूल आदि भी खूब प्रचलन में है। इन उत्पादों की सबसे खासियत यह है कि यह किसी की भी जेब के हिसाब से यह फीट बैठ जाता है। इससे बने फर्नीचर स्टाइल का प्रतीक बन चुका है। इसे शौकीन लोग खूब पसंद करते हैं। कुशल और अनुभवी फर्नीचर कारीगरों के हाथ से इसकी सुंदरता और बढ़ जाती है। बाज़ार के जानकारों का कहना है कि घर में यह एंटीक व प्राकृतिक लुक देने के कारण होम मेकर्स इस फर्नीचर पसंद कर रहे है। यह फर्नीचर लकड़ी व स्टील से कम महत्व नहीं रखता है। बेंत से बने फर्नीचरर्स हमेशा ट्रेंड में रहते हैं।
बेंत फर्नीचर की खासियत
-वज़न कम होने के कारण इसे कहीं पर ले जाने या रखने में आसानी होती है।
-इस पर बढ़ते तापमान का कोई असर नहीं पड़ता है।
-यह आरामदायक होता है।
-यह कैजुअल और औपचारिक दोनों ही रूप में इसका प्रयोग किया जा सकता है।
-घर की सुन्दरता और एंटिक लुक देने के कारण हमेशा प्रचलन में होना

बरेली का बेंत फर्नीचर

बेंत फर्नीचर का जिक्र आये और बरेली का नाम न हो, ऐसा नहीं हो सकता है। कहा जाता है, ब से बेंत और ब से बरेली। इन दोनों के नाम एक दूसरे के पूरक बन चुके हैं। बरेली में निर्मित बेंत से बने फर्नीचर अपनी उपयोगिता और सुन्दरता के कारण देश ही नहीं विदेशों तक काफी प्रसिद्ध है। इसके निर्माण ने यहां के लधु कुटीर उद्योग में नई जान डाल दी है। इसके सहारे यहां के हज़ारों लोगों को रोजगार मिला हुआ है। यहां स्थित पुराना शहर एवं आजमनगर क्षेत्र बेंत के फर्नीचर के निर्माण को लेकर काफी मशहूर है। यहां पर बेंत के फर्नीचर बनाने का अपना एक अलग ही अंदाज़ है। सबसे पहले बेंत को छीलकर साफ किया जाता है। इसके बाद इसको (यदि बेंत की मोटाई अधिक है) आंच पर गर्म करके विभिन्न आकारों में ढाला जाता है। कम मोटाई के बेंत को बिना आंच की सहायता से मोड़ा जा सकता है। इसके विभिन्न टुकड़ों को विशेष आकृति देने के लिये इसे कीलों की मदद से आपस में जोड़ा जाता है। इसको अधिक मज़बूती प्रदान करने के लिये जोड़ों पर बेंत के तारों से कलात्मक रूप में बुनाई की जाती है। बुनाई के बाद चमकीली पॉलिश से इसको अन्तिम रुप दिया जाता है। यहां पर बेंत से बने हर प्रकार के फर्नीचर उपलब्ध हैं। बेंत से बने फर्नीचर की ब्रिकी के लिये शहर के मध्य एक बाजार भी स्थित है। इस कुटीर उद्योग का जलवा धीरे-धीरे इसके आस-पास के इलाकों में कायम हो रहा है। यहां निर्मित फर्नीचर का रूप ग्लोबल हो चुका है। यहां के बने फर्नीचरर्स की मांग देश में ही नहीं, बल्कि विदेशों में होने लगी है। कच्चे माल के रुप में इस्तेमाल होने वाले बेंत की आपूर्ति मुख्यत: असम राज्य से होती है। कीमत
बेंत के बने सोफे की कीमत करीब 4000-18000 की रेंज में बाज़ार में उपलब्ध है जबकि डाइनिंग टेबल की कीमत 15 हज़ार से लेकर 30 हज़ार के मध्य है। ध्यान में रहे कि फर्नीचर की कीमत डिजाइन और बैठने की क्षमता के आधार पर ज्यादा निर्भर करता है।

LEAVE A REPLY