साइरस मिस्त्री की टाटा समूह से छुट्टी, निदेशक पद से हटाए गए

0
66

TATA SONS के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री को कंपनी के निदेशक पद से भी हटा दिया गया। टाटा संस लिमिटेड के शेयरधारकों की असाधारण सामान्य बैठक में साइरस मिस्त्री को निदेशक पद से हटाने का प्रस्ताव बहुमत से पारित किया गया। उन्हें हटाने का प्रस्ताव पेश किया था। कंपनी के शेयरधारकों की बैठक में मिस्त्री को हटाने के प्रस्ताव को आवश्यक बहुमत से मंजूर कर लिया गया।

पिछले साल ही रतन टाटा ने साइरस मिस्त्री को अचानक टाटा ग्रुप के चेयरमैन पद से अपदस्थ कर अंतरिम चेयरमैन के तौर पर खुद पद संभाल ली थी। इसके बाद समूह की प्रमुख कंपनियों के शेयरधारकों ने उन्हें कंपनी के चेयरमैन पद से हटाने का प्रस्ताव पारित किया था। टाटा संस में रतन टाटा के नेतृत्व वाले टाटा ट्रस्ट की दो तिहाई हिस्सेदारी है। मिस्त्री परिवार के पास इस 18.4 पर्सेंट शेयर हैं। बाकी हिस्सेदारी टाटा ग्रुप की कंपनियों की हैं। 6 फरवरी को ईजीएम पर रोक लगाने के लिए साइरस ने एनसीएलएटी का दरवाजा खटखटाया था। इस निर्णय के बाद 10 साल में पहली बार शापोरजी पल्लोनजी परिवार का बोर्ड में कोई प्रतिनिधित्व नहीं होगा। मिस्त्री टाटा संस के बोर्ड में 2006 में शामिल हुए थे। इससे दो साल पहले उनके पिता पल्लोनजी शापोरजी मिस्त्री ने निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया था. वह टाटा संस के बोर्ड में 1980 से शामिल थे. हालांकि, मिस्त्री परिवार की टाटा संस में 1965 से हिस्सेदारी है। पिछले सप्ताह राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण मिस्त्री के परिवार की दो निवेश कंपनियों द्वारा ईजीएम को स्थगित करने की अपील ठुकरा दी थी। राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण की पीठ ने 31 जनवरी को कोई राहत देने से इनकार कर दिया था जिसके बाद मिस्त्री खेमा एनसीएलएटी में गया था।

 

LEAVE A REPLY