घर में बनाएं किचन गार्डन

0
104
photo courtesy https://shawnacoronado.com/

प्रवीन कुमार
कन्हौरा,ज़िला- रेवाड़ी

सभी पौधों के लिए दोमट मिट्टी सबसे अच्छी रहती है। गमलों में दो हिस्सा मिट्टी और एक हिस्सा खाद होनी चाहिए। ध्यान रखें कि गोबर की खाद, केंचुआ खाद या कम्पोस्ट खाद का ही इस्तेमाल करें। रासायनिक खाद इस्तेमाल न करें। आप गमलों में घीया, तुरई, टिंडा, करेला और खीरे की बेल लगा सकती हैं। ध्यान दे कि गमला इतना बड़ा होना चाहिए कि जड़े आसानी से फैल सकें। बेल वाली सब्जियों को दीवार पर चढ़ाना ज़रूरी होता है इसलिए बेल को दीवार के सहारे किसी पतली रस्सी में बांध कर चढ़ा दें। लौकी का तना मोटा होता है इसलिए रस्सी की मज़बूती परख लेनी चाहिए कि वो इतना वज़न उठा ले। टमाटर, बैंगन, मिर्च के पौधे बीज से उगाए जा सकते हैं। टमाटर, बैंगन के पौधों के लिए बड़े गमले लें। इन्हें बीज से उगाकर पौधे में छह पत्तियां आ जाए जो इन्हें दूसरी जगह स्थानांतरित कर दें।
चाहे आप खाना पकाने के शौकीन हो या खाने के अगर ताजी सब्जियां घर के किचिन गार्डन में ही मिल जाए तो कहना ही क्या। घर में किचिन गार्डन बनाकर न केवल ताजा और और्गेनिक सब्जियां प्राप्त की जा सकती है बल्कि घर में हरियाली भी पैदा की जा सकती है। घर के किचिन गार्डन में सब्जियों के अलावा फूल, मसाले, सलाद के पौधे और औषधीय पौधे भी बोए जा सकते हैं।
अगर आपके घर में कच्ची ज़मीन है तो बहुत अच्छा है नहीं तो गमलों और विंडों बॉक्स के इस्तेमाल से भी किचिन गार्डन बना सकती हैं। अगर घर छोटा है तो बालकनी और छत पर गमले रखे जा सकते हैं। फ्लैट में रहने वाले लोग विंडों बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।
सीमेंट आर्ट का इस्तेमाल करके अपने गार्डन का प्रवेश द्वार बनाया जा सकता है। इन्हें नेचुरल रंगों से पेंट कर आकर्षक लुक दिया जा सकता है। पौधों के लिए गमलों का चयन करते समय ध्यान दें कि छोटे पौधों के लिए छोटे गमले और बड़े पौधों के लिए बड़े गमले इस्तेमाल करें। गमलों को पास-पास रखें ताकि पौधों में ठंडक बनी रहे। गमलों पर पौधों के नाम के लेबल लगाए जा सकते हैं इससे उन्हें पहचानकर उनमें पौधों की आवश्यकतानुसार खाद पानी देने और देख रेख में सुविधा होगी।
इसके अलावा किचिन गार्डन में मसाले भी उगाए जा सकते हैं। आप गमलों में अजवाइन, अदरक, सौंफ, धनिया, पुदीना, हरी मिर्च वगैरह लगा सकते हैं। मसालों के पौधे गोबर की खाद के साथ ही लगाएं, यदि कीड़े लग भी जाएं तो नीम को पानी में उबालकर छिड़के या पानी की तेज़ धार से कीड़ों को गिरा दें। इस तरह आप उपरोक्त बातों का ध्यान रखकर अपना किचिन गार्डन बना और संवार सकते हैं।

LEAVE A REPLY