रियल एस्टेट सेक्टर का भविष्य अफोर्डेबल हाउस में निहित है: एम. वेंकैया नायडू

0
65

आवास एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने रियल एस्टेट क्षेत्र के डेवलपर्स से अफोर्डेबल हाउस वाली परियोजनाओं का काम बड़े पैमाने पर शुरू करने का आग्रह किया है और कहा कि रियल एस्टेट सेक्टर का भविष्य अफोर्डेबल हाउस में ही निहित है। नायडू ने इस बारे में बताया कि सरकार का फोकस मध्य म आय वाले समूहों सहित सभी लोगों के लिए आवास सुनिश्चित करने पर है, जिसके तहत समाज के निचले तबकों के साथ-साथ मध्यम आय वाले लोगों के लिए भी आवास उपलब्धे कराने के असीम अवसर हैं, जिससे डेवलपर्स को निश्चित रूप से लाभ उठाना चाहिये क्योंकि उन्होंने हाल के वर्षों में काफी उतार-चढ़ाव देखे हैं। सरकार ने किसी भी अन्य क्षेत्र (सेक्टंर) की तुलना में रियल एस्टेेट सेक्टंर पर ही ज्यादा ध्यान दिया है। इसके तहत रियल एस्टेट सेक्टर में नई जान फूंकने के लिए पिछले दो वर्षों के दौरान 20 से भी ज्यादा मददगार उपायों की घोषणा की गई है, जिनमें अफोर्डेबल हाउस के लिए बहुप्रतीक्षित ढांचागत दर्जे के साथ-साथ अनेक तरह की कर रियायतें और छूट भी शामिल हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत आर्थिक दृष्टि से कमजोर तबकों, कम आमदनी वाले समूहों और 18 लाख रुपये तक की वार्षिक कमाई वाले मध्यंम आय समूहों के लोगों को भी प्रति लाभार्थी 2.35 लाख रुपये तक की केंद्रीय सहायता के योग्य माना गया है। श्री नायडू ने यह भी कहा कि ढांचागत दर्जे के तहत कम लागत वाले दीर्घकालिक वित्त पोषण, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मिलने वाली कर रियायतों और केंद्रीय सहायता और इन तबकों की आवास संबंधी व्यापक जरूरतों ने किफायती आवास को सर्वोत्तम निवेश अवसर के रूप में तब्दील कर दिया है। ऐसे में इन अवसरों से लाभ न उठाने का कोई और बहाना अब डेवलपर्स के पास नहीं रह गया है।

LEAVE A REPLY