होम इंटीरियर

0
70
banner1
http://www.rminterior.co.in/

भला एक आशियाने की चाहत किसे नहीं होती है। आम लोगों की ज़रूरत रोटी, कपड़ा के बाद सबसे महत्वपूर्ण मकान यानि घर ही होता है। लोग रोटी, कपड़ा की ज़रूरत को काफी हद तक पूरा कर लेते हैं लेकिन एक अदद आशियाना बनाना बहुत मुश्किल होता है। लेकिन रियल एस्टेट के  सतत विकास ने इस परेशानी को काफी हद तक हल कर दिया है। आप के बजट के हिसाब से अब हर जगह घर मिलने लगे हैं। मार्केट में अभी हर प्रकार के घर का जलवा कायम होने से लोगों के घर लेने के सपने साकार होने लगे हैं। यदि आप नया घर ले रहे हैं तो इस शुभ आगमन के साथ हम कुछ महत्वपूर्ण बातों को यहां बताने जा रहे हैं, जो घर की दुनिया को एक नया अंदाज़ देने के साथ-साथ उसकी सुंदरता की कहानी को एक बेहतर प्लेटफॉर्म देगा। वैसे भी देखा जाय तो घर से आपकी पहचान होती है। खासकर इसका लुक बहुत मायने रखता है। यदि घर सुंदर और साफ-सुथरा हो तो जहां एक ओर यह आपके व्यक्तित्व को निखारता है, वहीं दूसरी ओर आपका सोशल स्टेटस को भी बढ़ाता है। यहां सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जब आप नया घर का चुनाव करते हैं तो आपके नए घर की साज-सज्जा कैसी हो, उसे परिवार वालों के लिए कैसे आरामदायक बनाए जाए, जैसे कई बातें मन में उठती हैं। अपने नए घर में जगह कितनी है, आपका बजट कितना है और आपके परिवार की ज़रूरतें क्या हैं, इन सब बातों पर भी खास ध्यान रखना होता है। सबसे पहले नए घर में जाने से पहले आप वहां के फर्श की अपनी ज़रूरत के हिसाब से सफाई और घिसाई करवाएं या फिर अगर आप वहां की फ्लोरिंग बदलना चाहती हैं तो यह काम यहां आने से पहले ही पूरा करवा लें।  फर्श की सजावट के लिए छोटे आकार के कारपेट का प्रयोग कर सकत हैं। यह अभी ट्रेंड में भी है। सबसे अच्छी बात यह है कि इसका देखभाल करना भी आसान होता है।

वुडन फ्लोरिंग

वुडन फ्लोरिंग भले ही प्रचलन में हो लेकिन यह पश्चिमी देशों के लिए ज्यादा उपयुक्त होती है। अपने यहां के मौसम में नमी और धूल की समस्या बहुत ज्यादा होती है, इसलिए घरों के लिए वुडन फ्लोरिंग के बजाय मार्बल फ्लोरिंग ज्यादा बेहतर मानी जा सकती है।  वैसे भी फ्लोरिंग में विट्रीफायड टाइल्स का ज्यादा चलन है।

दीवार

घरों में दीवार की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होती है। खासकर, आप अपनी कल्पनाओं की उड़ान को दीवारों के रंग से ही फलीभूत कर सकते हैं। इसलिए अपनी पसंद के कलर दीवारों पर पेंट करवाएं। जानकारों के अनुसार दीवारों के लिए प्लास्टिक पेंट सबसे बेहतर होता है। इससे पेंट कराने से सबसे ज्यादा फायदा यह होता है कि आप लंबे समय तक निश्चिंत रह सकते हैं। यदि इस पर दाग-धब्बे पड़ भी जाएं तो उसे आसानी से साफ भी कर सकते हैं। घर के दीवारों को वॉल पेपर से भी आकर्षक और मनचाहे रंग दे दिया जा सकता है। घर में खिड़की एक ऐसा स्थान है, जो घर में सुरक्षा की दृष्टिकोण के साथ-साथ स्वच्छता में अहम् रोल निभाता है। वैसे देखा जाय तो वर्तमान समय में खिड़कियों में ग्रिल के बजाय शीशा लगवाने का प्रचलन ज्यादा है। इससे फायदा यह होता है कि आप घर के भीतर से बाहर के दृश्य देख सकते हैं। जानकारों का कहना है कि इस ग्रील पर लगे शीशे पर ब्लैक फिल्म ज़रूर लगवाएं, ताकि आपके घर में प्रकाश का समुचित अदान-प्रदान का संतुलन बना रहे । लेकिन इस सिस्टम को तभी लगाएं जब आपके घर के आसपास सिक्युरिटी व्यवस्था चुस्त-दुरूस्त हो।

लाइटिंग की व्यवस्था

घर में इंटीरियर का वही स्थान है, जैसे शरीर में आत्मा का स्थान। घर की सुंदरता में इंटीरियर चार चांद लगाता है। इसमें समुचित प्रकाश की व्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस व्यवस्था से आपके घर में रखी हर चीज़ की सुंदरता और अधिक बढ़ जाती है। आप अपने घर में लैंप शेड, कंसील लाइट, शैंडलियर और सीएफएल को इस ढंग से लगाएं ताकि आपके पूरे घर में समान रूप से रौशनी मिल सके। कमरे में सूर्य की रौशनी अच्छी तरह आए, इसके लिए आप परदे की जगह ट्रांसपेरेंट ब्लांड लगवाएं। इसमें 40 से 60  प्रतिशत तक पारदर्शिता होती है। इसके बाद आप यह तय करें कि आप अपने नए घर के इंटीरियर को कैसा लुक देना चाहते हैं, क्योंकि वेस्टर्न, क्लासिक, एथेनिक और कोलोनियल लुक के अनुसार पूरे घर के लिए फर्नीचर, परदे से लेकर सजावटी वस्तुओं तक की साज-सज्जा अलग-अलग होती है। घर की सुंदरता काफी हद तक उसके इंटीरियर पर निर्भर करता है। लुक के अनुसार पूरे घर के लिए फर्नीचर, परदे से लेकर सजावटी वस्तुओं तक की साज-सज्जा अलग-अलग तरह की होती है। यदि आप अपने घर को एथेनिक लुक देना चाहती हैं तो  रॉयल कॉर्विग वाले फर्नीचर, पुराने लुक वाले आर्ट पीसेज, दीवारों पर ब्राइट कलर्स, फ्लोरल प्रिंट वाले परदे आदि का प्रयोग करें। वैसे देखा जाय तो आजकल मिक्स एंड मैच लुक का भी चलन जोरों पर है, जिसमें किसी एक शैली की सजावट के साथ दूसरी शैली को मिक्सअप किया जाता है।

ड्राइंगरूम

घरों के इंटीरियर में ड्राइंगरूम का विशेष महत्व है। खासकर इसे इंटीरियर करते समय इसके फोकल पॉइंट पर विशेष ध्यान रखें। यह वह स्थान है, जहां घर में प्रवेश करने वालों की नज़र जाती है।  इंटीरियर एक्सपर्ट के मुताबिक किसी भी व्यक्ति की दृष्टि 2.5 से 8 फुट की ऊंचाई तक जाती है। इसी हिसाब से घरों में पेंटिंग लगाएं। इस फोकल पॉउंट पर कोई आकर्षक शो पीस, हैंडीक्राफ्ट से बनी कोई भी कलात्मक वस्तु लगा सकते हैं। इन बातों को ध्यान में रखकर घर सजाने से, जहां एक तरफ घर में खुशनुमा माहौल बनता है, वहीं दूसरी ओर घर में प्रवेश करने वाले अतिथि को आर्कर्षित कर सकते हैं। आज के घरों में मास्टर बेडरूम का महत्वपूर्ण स्थान हो गया है। इसे इंटीरियर करते समय आप अपनी ज़रूरतों का भी पूरा ख्याल रखें। बेडरूम में एक छोटा सिटिंग अरेंजमेंट के लिए एक छोटा कॉफी टेबल और दो कुर्सियां रख सकती हैं। यह छोटा सिटिंग अरेंजमेंट को बेहतर माना जाता है। मास्टर बेडरूम को हमेशा सॉफ्ट लुक के अनुसार ही सजाना चाहिए। इसके दीवारों पर नीले या गुलाबी रंग के विभिन्न हलके शेड्स का प्रयोग करने से घर की सुंदरता में चार चांद लग जाता है। आज कल मास्टर बेडरूम के दीवारों पर पीच और ऑरेंज़ कलर के हलके शेड्स का प्रयोग भी खूब हो रहा है।

टीवी

हर घर में टीवी आम है, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात है कि इसे कहां और कैसे रखें। यह बात बहुत कम को पता होता है। जानकार मानते हैं कि यदि आप अपने बेडरूम में टीवी रखते हैं तो इसे इस तरह रखें कि टीवी और आपके बेड के बीच 90 डिग्री का एंगल हो। ऐसा करके टीवी रखने पर टीवी देखते समय आंखों को तकलीफ नहीं होती है।

कीड्स रूम का इंटीरियर

घरों में बच्चों के कमरे का इंटीरियर खास मायने रखते हैं। बच्चों के कमरे का इंटीरियर करते समय इस बात का पूरा ख्याल रखें कि बेड के साथ उसके उसकी पढ़ाई के लिए आरामदायक स्टडी टेबल और अच्छी लाइटिंग सुविधा उपलब्ध हो। एक्सपर्ट मानते हैं कि बच्चों के घरों का इंटीरियर करते समय लड़कों के लिए नीले और लड़कियों के कमरे के लिए गुलाबी रंग का इस्तेमाल करना ज्यादा सही है। बच्चों के कमरे को स्पोटी लुक के साथ उनके रोल मॉडल से जुड़े पोस्टर और सॉफ्ट टॉयज से सजाएं।

फर्नीचर

घरों में स्पेस को ध्यान में रखते हुए फर्नीचर लगवाएं। अपने फर्नीचर को घरों की ज़रूरत के अनुसार  दीवारों या परदों के मैचिंग के अनुसार नया रंग या आकार भी दे सकते हैं। घर की सुंदरता को बरकरार रखने के लिए सफाई सबसे महत्वपूर्ण है। इसलिए फर्नीचर सेट करने से पूर्व आप पेस्ट कंट्रोल करवा लें ताकि आपका घर सुंदर-सुव्यवस्थित होने के साथ कीटाणुओं से भी मुक्त रहे। इन सारी बातों को आप ख्याल में रखते हैं तो आपका घर सुंदर दिखने के साथ स्वच्छ भी रहेगा और आप का घर बन जाएगा सुंदर सपनों का आशियाना।

 

LEAVE A REPLY