परदा है परदा

0
115

 सीमा झा, इंटीरियर एक्सपर्ट

घर में प्रयोग वाले कई एक्सेसरीज में परदे का अपना एक अलग रोल होता है। यह न सिर्फ धूप, रौशनी आदि से घर की सुरक्षा करता है, बल्कि घर की प्राइवेसी को भी बरकरार रखता है। लेकिन इन सबसे हट कर परदे की एक और महत्वपूर्ण भूमिका होती है और वह यह कि घर की सुंदरता में इज़ाफा करना। नि:संदेह एक अच्छी क्वॉलिटी और कलर के परदे घर की सुंदरता में जान डाल देता है। यों तो हम आप अपने घर में किसी न किसी रूप में परदे का प्रयोग करते हैं। लेकिन बहुत कम लोग परदे की कुछ महत्वपूर्ण बात को जान नहीं पाते हैं। मसलन, परदे की क्वॉलिटी से लेकर परदे हैगिंग आदि के बारे में। तो चलिए हम आपको ले चलते हैं, परदे की निराली दुनिया में सैर कराने के लिए। सबसे पहले शुरूआत करते हैं, इसके विविधता के बारे में।

कॉटन के परदे

परदे में सबसे कॉमन है, कॉटन के परदे। यह आम तौर पर सभी घरों में यूज किया जाता है। यह कई क्वालिटी में आता है, जिसमें कॉटन सिंथेटिक मिक्स मैटेरियल प्रचलन में है। इस प्रकार के परदे तकरीबन हरेक डिज़ायन के प्रिंट मिल जाते हैं। जैसे कि फ्लावर प्रिंट, लाइनिंग, स्ट्राइप आदि। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह कीमत के हिसाब से सस्ता होता है और यह आपके बजट में फिट बैठ जाता है।

पोलिस्टर और साटिन स्टफ

इस तरह के स्टफ वजन में बहुत हल्के होते हैं और हल्के वजन होने के कारण थोड़ी सी हवा मिलने पर उडऩे लगते हैं। साथ ही इसमें सिलवटें भी बहुत जल्दी पडऩे लगती है। यह देखने में कोई आकर्षक लुक नहीं देते हैं। साटिन स्टफ पोलिएस्टर के अपेक्षाकृत भारी होता है, लेकिन थोड़े मंहगे भी होते हैं, लेकिन लुकवाइज अच्छे लगते हैं।

 

धागे और नेट वाले परदे

ये परदे, परदे के रूप में न के बराबर काम आता है और यह घर को आकर्षक बनाने में ज्यादा योगदान देते हैं। इसमें पतले-पतले धागों के बीच में मोतियां पिरोई जाती हैं और परदे का लुक झालर की तरह लगता है। वहीं नेट वाले परदे भी घर को धूप, रौशनी और प्राइवेसी से बचाव न के बराबर ही कर पाता है लेकिन इससे कमरे की सुंदरता में इज़ाफा ज़रूर हो जाता है। इस तरह के परदे डाइंग और डाइनिंग एरिया के लिए सही रहते हैं।

स्लिक और वेलवेट

ये परदे घर को रिच लुक देते हैं और इस कपड़े में शाइनिंग होने की वज़ह से आकर्षक भी लगते हैं। क्वॉलिटी के हिसाब से कपड़े में भारीपन की वजह से यह इधर-उधर भी नहीं सरकता है। वेलवेट के परदे सर्दी के दिनों के सही रहते हैं, क्योंकि इससे घर की गर्माहट बनी रहती है। इसमें प्लेन और प्रिंट दोनों आते हैं। कीमत के हिसाब से ये थोड़ी मंहगा होता है।

विस्कोस गोप कर्टन

यह परदा एक खास प्रकार के मोटे धागे से बनाया जाता है, जो कि आम परदे से हटकर लुक देता है, यह तो हुई परदों के स्टफ की बात, लेकिन परदे की खूबसूरती के लिए ज़रूरी है कि आप इसे किस प्रकार से हैगिंग करते हैं। आप यह जानकर हैरान हो जाएंगे कि परदे को बेहद ही सिंपल तौर से हैगिंग करने के अलावा कुल 12 तरीके हैं, जिससे आप अपने परदे को खिड़की या दरवाजे पर हैगिंग कर सकें। इनमें शामिल हैं- रॉक पॉकेट, पेसिंल प्लीट, वर्सटाइल प्लीट,, ग्लोबल प्लीट, आई लेट, ट्पील पींच प्लेट, डबल बॉक्स प्लीट, टेब टॉप, डबल पींच प्लीट तथा सिंगल पींच प्लीट आदि।

 

बात परदों की

-प्लेन परदों में प्रिंटेड बार्डर तथा प्रिंटेड परदों पर प्लेन लगाकर परदों को आकर्षक बना सकते हैं।

-कमरे की अलग छटा प्रदान करने के लिए आप खुद से क्रियेट हुए पर्दे भी लगा सकते हैं,इसके लिए पुरानी जरी की साड़ी या दुपट्टे हो तो उसे भी आप परदों के लिए उपयोग कर सकती हैं।

-परदें के लिए वायल, कॉटन सिल्क, वूल, वेलवेट व खादी किसी भी स्टफ का चुनाव कर सकती हैं।

-कमरे में परदों का चयन करते समय मौसम को अनदेखा ना करें। सर्दी के मौसम में जहां गहरे रंग वाले परदें सही रहते हैं, वहीं गर्मी के दिनों वे हल्के रंग वाले परदों का चयन करें।

-परदें का चयन करते समय कमरे में आने वाली रौशनी की आवश्यकता पर भी ध्यान दें। क्योंकि कमरे में रौशनी की आवश्यकता हरेक जगह अलग-अलग होती है। ऐसे में कम रौशनी के लिए भारी परदे का चयन करें और अधिक रोशनी के लिए हल्के पर्दे का।

-धूप से बचाव के लिए परदे के फेब्रिक में लाइनिंग का प्रयोग करें। इससे धूप से बचाव तो होगा ही साथ ही उसका डेप भी ठीक रहेगा।

-ऐसे कपड़े या फिर ऐसे प्रिंट का चयन कभी न करें जो कि आंखों को चुभें।

-आप घर को अधिक आकर्षक बनाने के लिए दो स्टफ वाले परदे का चुनाव भी कर सकते हैं। इसमें एक लेयर टीशू की और दूसरी किसी भारी फैब्रिक की।

-अक्सर लोग घर में होने वाले खास अवसर पर बेडशीट, कुशन आदि तो बदलते हैं, लेकिन परदे के मामले में कोताही बरतते हैं, इससे पूरे घर का लुक बिगड़ जाता है।

-ऐसा न हो, इसलिए आप भी खास अवसरों के लिए खास परदे रखें। या समान्य परदे पर मिरर वर्क, कुंदन वर्क, जरदोजी वर्क करवा लें ।

-अगर ऑरियंटल लुक चाहती हैं तो आप बीड लगे परदे लगा सकती हैं।

-ट्रेडिशनल लुक के लिए जैकार्ड व ब्रोकेड के परदे लगा सकती हैं, जो कई प्रिंटस व प्लेन में मिलते हैं।

-लिविंग रूम में नेट के परदे या कॉन्स्ट्राट कलर में कॉटन के परदे भी अच्छे लगते हैं।

-परदों में नयापन लाने के लिए क्रॉशीए के बने छोटे-छोटे टिक्कीनुमा डिज़ाइन भी अच्छे लगते है।

-यदि घर की शोभा को अधिक बढ़ाना चाहती हैं तो परदे के लिए पोली सिल्क और पोली साटिन का इस्तेमाल करें । इसकी शाइन लुक कमरे की सुंदरता को दोगुनी कर देगी।

-सूती कपड़ें को झालर तथा मोटिफ से नया रूप दिया जा सकता है। इस पकार के परदे रसोई घर व बॉथरूम में अच्छे लगते हैं।

-मुगल और पारंपरिक कलाओं के कट वर्क, एप्लेकि वर्क व कांथा वर्क के परदे एक अलग ही लुक देते हैं।

-लिविंग रूम के परदे सट्राप्स या चेक वाले परदे भी लगाए जा सकते हैं, पर ड्राइंग रूप में जितना हो सके, एक ही कलर के परदे का इस्तेमाल करें।

– बच्चे वाले कमरें के लिए टैडी प्रिंट, टॉयज आदि वाला परदे लगाएं। इससे बच्चों का उत्साह देखते ही बनता है।

–  परदे की रोड पर लहरियेदार झालर लगाने का फैशन हमेशा से रहा है। यह कमरे को रॉयल लुक देते हैं। लेकिन यह तभी अच्छा लगता है जब कि आपका कमरा और उसकी खिड़की बड़ी हो।

– यदि परदा हल्के वज़न वाला हो तो और हवा में बहुत ज्यादा उड़ रहा हो तो , इसमें बीच-बीच में डेकोरेटिव बटन टांक दें , इससे पर्दे टिके रहेंगे।

–  सबसे महत्वपूर्ण बात आप अपने कपड़े की साफ-सफाई की तरह परदे की साफ-सफाई को लेकर भी कॉशश रहें। नहीं तो कीमती से कीमती गंदा परदा भी घर की रौनक को बिगाड़ सकता है।

 

LEAVE A REPLY